काठमांडू घाटी में गोलगप्पे बेचने पर रोक, हैजे के मामले बढ़े

Cholera
Google Creative Commons.
स्वास्थ्य मंत्रालय के तहत महामारी विज्ञान और रोग नियंत्रण मंडल के निदेशक चुमनलाल दास के अनुसार, काठमांडू महानगर में हैजे के पांच मामलों की पहचान की गयी है और चंद्रगिरि महानगर और बूढ़ानीलकंठ महानगर में एक-एक मामला आया है।

 काठमांडू|  काठमांडू घाटी के ललितपुर महानगर शहर में पानी पूरी(गोलगप्पे) की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया गया है क्योंकि घाटी में 12 लोगों के संक्रमित पाए जाने के साथ ही हैजे के मामले बढ़ गए हैं।

ललितपुर मेट्रोपोलिटन सिटी (एलएमसी) ने शनिवार को महानगर में पानी पूरी की बिक्री और वितरण पर रोक लगाने का फैसला लिया। उसने दावा किया कि पानी पूरी में इस्तेमाल किए जाने वाले पानी में हैजे का बैक्टीरिया पाया गया है।

म्युनिसिपल पुलिस प्रमुख सीताराम हाचेथु ने कहा कि महानगर ने भीड़भाड़ वाले इलाकों और कॉरिडोर इलाके में पानी पूरी की बिक्री रोकने के लिए आंतरिक तैयारियां की है।

उन्होंने कहा कि घाटी में हैजे के फैलने का खतरा बढ़ गया हे। स्वास्थ्य एवं जनसंख्या मंत्रालय के अनुसार, काठमांडू घाटी में सात और लोगों के हैजे से संक्रमित पाए जाने के साथ ही घाटी में इसके मरीजों की कुल संख्या 12 हो गयी है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के तहत महामारी विज्ञान और रोग नियंत्रण मंडल के निदेशक चुमनलाल दास के अनुसार, काठमांडू महानगर में हैजे के पांच मामलों की पहचान की गयी है और चंद्रगिरि महानगर और बूढ़ानीलकंठ महानगर में एक-एक मामला आया है। संक्रमितों का अभी तेकू के सुक्रराज ट्रॉपिकल एंड इन्फेक्शियस डिजीज हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है।

इससे पहले राजधानी के विभिन्न हिस्सों में हैजे के पांच मामले आए थे। दो संक्रमित लोगों का इलाज किया गया और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गयी है। इस बीच, स्वास्थ्य एवं जनसंख्या मंत्रालय ने लोगों से हैजे का कोई भी लक्षण दिखने पर तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में जाने का अनुरोध किया है।

मंत्रालय ने हर किसी से चौकन्ना रहने का अनुरोध किया है क्योंकि डायरिया, हैजा और जल जनित अन्य बीमारियां खासतौर से गर्मियों और बारिश के मौसम में फैल रही है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़