डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- दर्दनाक खशोगी की टेप नहीं सुनना चाहता

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 19, 2018   12:35
डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- दर्दनाक खशोगी की टेप नहीं सुनना चाहता

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि उन्हें पत्रकार खशोगी की हत्या की ऑडियो रिकार्डिंग के बारे में पूरी तरह बता दिया गया है लेकिन वह स्वयं उसे सुनना नहीं चाहते।

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि उन्हें पत्रकार खशोगी की हत्या की ऑडियो रिकार्डिंग के बारे में पूरी तरह बता दिया गया है लेकिन वह स्वयं उसे सुनना नहीं चाहते। उन्होंने ‘फोक्स न्यूज संडे’ के साथ साक्षात्कार में कहा, ‘‘क्योंकि यह बहुत ही दर्दनाक टेप है। यह भयावह टेप है।’’यह साक्षात्कार शुक्रवार को हुआ। ट्रंप ने कहा, ‘‘यह बहुत ही हिंसक, बहुत ही दुष्टतापूर्ण और भयावह था।’’अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने रविवार को कहा कि उन्हें पत्रकार खशोगी की जघन्य हत्या से संबंधित ऑडियो रिकॉर्डिंग के बारे में सबकुछ बता दिया गया है, लेकिन उन्हें इन ‘‘दर्दनाक’’ टेपों को नहीं सुनने की सलाह दी गयी है। खशोगी (59) ‘वाशिंगटन पोस्ट’ के लिये लिखा करते थे। पिछले महीने तुर्की में सऊदी वाणिज्य दूतावास के अंदर उनकी हत्या कर दी गयी थी। वह अपनी शादी से संबंधित दस्तावेज लेने के लिये दूतावास गये थे।

तुर्की के जांचकर्ताओं ने बताया कि उनके पास खशोगी की हत्या की ऑडियो रिकॉर्डिंग है, जिसे उन्होंने अमेरिका समेत अपने अहम सहयोगी देशों के साथ साझा किया है। ट्रंप ने ‘फॉक्स न्यूज’ के क्रिस वैलेस के साथ साक्षात्कार में पहली बार यह माना कि उन्हें खशोगी की हत्या की ऑडियो रिकॉर्डिंग के बारे में सबकुछ बताया गया है। यह साक्षात्कार रविवार को प्रसारित हुआ। समाचार चैनल के अनुसार ट्रंप ने कहा कि उन्होंने टेप नहीं सुना है क्योंकि उन्हें इस ‘‘दर्दनाक’’ टेप को नहीं सुनने की सलाह दी गयी थी। एक दिन पहले ही ट्रंप ने खशोगी की हत्या को लेकर जांच एजेंसी का आकलन जानने के लिये सीआईए प्रमुख के साथ बात की थी। मंगलवार तक उन्हें इस पर विस्तृत रिपोर्ट मिलने की उम्मीद है। एक दिन पहले ट्रंप ने कैलिफोर्निया में संवाददाताओं से कहा था, ‘‘यह (खशोगी की हत्या) बेहद भयावह घटना थी।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...