अल्बानिया में भूकंप: आठ लोगों की मौत, 300 से अधिक घायल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2019   18:31
अल्बानिया में भूकंप: आठ लोगों की मौत, 300 से अधिक घायल

बचावकर्मी भूकंप के कारण ढही इमारतों के बीच फंसे लोगों को बचाने के प्रयास कर रहे हैं।अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण के अनुसार 6.4 तीव्रता के साथ आये भूकंप का केन्द्र राजधानी तिराना से 30 किलोमीटर उत्तर पश्चिम में था। इसके बाद 5.1 और 5.4 की तीव्रता वाले कई झटके महसूस किए गए।

तिराना (अल्बानिया)। अल्बानिया में मंगलवार तड़के आये भीषण भूकंप के कारण कम से कम आठ लोगों की मौत हो गई और 300 से अधिक लोग घायल हो गये। बचावकर्मी भूकंप के कारण ढही इमारतों के बीच फंसे लोगों को बचाने के प्रयास कर रहे हैं।अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण के अनुसार 6.4 तीव्रता के साथ आये भूकंप का केन्द्र राजधानी तिराना से 30 किलोमीटर उत्तर पश्चिम में था। इसके बाद 5.1 और 5.4 की तीव्रता वाले कई झटके महसूस किए गए। यूनान और कोसोवो ने अल्बानिया में बचावकर्ताओं की मदद का वादा किया है। अल्बानिया के प्रधानमंत्री एदी रमा ने मदद की पेशकश करने वाले देशों को धन्यवाद दिया। उन्होंने बताया कि यूरोपीय संघ, पड़ोसी देशों और अमेरिका ने मदद की पेशकश की है। 

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान में बस और ट्रक की टक्कर में आठ लोगों की मौत

भूकंप के कारण कम से कम तीन इमारतें गिर गईं। बचावकर्मी फंसे हुए लोगों को बाहर निकालने की कोशिश कर रहे हैं। इस बात का कोई अंदाजा नहीं है कि मलबे में कितने लोग दबे हो सकते हैं। अल्बानिया के राष्ट्रपति इलिर मेटा ने कहा कि थुमाने में स्थिति काफी गंभीर है। लोगों को बचाने की पूरी कोशिश की जा रही है।

रक्षा मंत्रालय ने बताया कि तिराना से 33 किलोमीटर दूर दुर्रेस में ढही इमारत से तीन शव बाहर निकाले गए। थुमाने शहर में भी एक इमारत ढहने के बाद मलबे से दो लोगों का शव निकाला गया था। वहीं, एक अन्य घटना में कुर्बिन में भूकंप आने पर घबरा कर अपने घर से बाहर छलांग लगा देने के कारण एक व्यक्ति की मौत हो गई।

इसे भी पढ़ें: करतारपुर साहिब में रविवार को सबसे ज्यादा 1,467 श्रद्धालुओं ने किए दर्शन

आपात सेवा के अधिकारियों ने बताया कि दुर्रेस में भूकंप के झटके की वजह से एक इमारत ढहने के कारण एक अन्य व्यक्ति की मौत हो गई। स्वास्थ्य मंत्री ओर्गेता मानास्तीर्लियू ने बताया कि दुर्रेस, तिराना और थुमाने में करीब 300 घायलों का इलाज चल रहा है। रमा ने बताया कि सभी सरकारी एजेंसियां चौकन्नी हैं और दुर्रेस और थुमाने में लोगों की जान बचाने के लिए काम कर रही हैं।उन्होंने फेसबुक पर लिखा, ‘‘इस आपदा के समय हमें शांत रहने की जरूरत है, इस दुख की घड़ी में हमें एक दूसरे का साथ देने की जरूरत है।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...