भारत एवं कैरिकॉम देश खाद्य एवं ऊर्जा सुरक्षा, जलवायु परिवर्तन पर मिलकर काम करने पर हुए राजी

India and CARICOM countries
प्रतिरूप फोटो
pib.gov.in
भारत एवं कैरिबियाई समुदाय (कैरिकॉम) देश खाद्य एवं ऊर्जा सुरक्षा तथा जलवायु परिवर्तन का मुकाबला करने जैसे वैश्विक मुद्दों पर मिलकर काम करने पर सहमत हुए। भारत और कैरिकॉम देशों ने राजनीतिक संवाद को प्रगाढ़ करने और महामारी के बाद अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के संदर्भ में सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की।

भारत एवं कैरिबियाई समुदाय (कैरिकॉम) देश खाद्य एवं ऊर्जा सुरक्षा तथा जलवायु परिवर्तन का मुकाबला करने जैसे वैश्विक मुद्दों पर मिलकर काम करने पर सहमत हुए। भारत और कैरिकॉम देशों ने राजनीतिक संवाद को प्रगाढ़ करने और महामारी के बाद अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के संदर्भ में सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की। संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक से इतर शुक्रवार को भारत और कैरिकॉम देशों के विदेश मंत्रियों की चौथी बैठक हुई।

विदेश मंत्री एस जयशंकर तथा बेलीज के विदेश, विदेश व्यापार एवं आव्रजन मंत्री इमॉन कोर्टने ने इस बैठक की सह अध्यक्षता की। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि इससे पहले सितंबर, 2019 में संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक से इतर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैरिकॉम देशों के नेताओं के साथ ऐतिहासिक बैठक हुई थी। शुक्रवार की बैठक में बारबाडोस, डोमिनिका, बहामास, ग्रेनाडा, गुयाना, जमैका, सेंट किट्स एंड नेविस, सेंट विंसेंट और ग्रेनाडाइंस, त्रिनिदाद एवं टोबैगो और सूरीनाम के विदेश मंत्रियों ने हिस्सा लिया।

बैठक के दौरान दोनों पक्षों ने भारत एवं कैरिकॉम में शामिल देशों के बीच सहयोग में लगातार प्रगति पर खुशी प्रकट की। उन्होंने 2019 में कैरिकॉम देशों के नेताओं के साथ प्रधानमंत्री मोदी की बैठक के दौरान की गयी घोषणाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा की। दोनों पक्षों नक राजनीतिक संवाद को प्रगाढ़ करने और महामारी के बाद अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के संदर्भ में व्यापार एवं निवेश तथा सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की। दोनों पक्षों ने अंतरराष्ट्रीय मंचों पर सहयोग पर संतोष जताया।

वे खाद्य एवं ऊर्जा सुरक्षा, जलवायु परिवर्तन का मुकाबला करने, आपदा प्रबंधन जैसे वैश्विक मुद्दों पर मिलकर काम करने पर राजी हुए। कैरिकॉम नेताओं ने कोविड-19 महामारी के दौरान एकजुटता दिखाने के लिए भारत को धन्यवाद दिया। दोनों पक्षों ने स्वास्थ्य एवं औषधि क्षेत्र, पारंपरिक औषधि, आईटी एवं आईटीईएस क्षमता निर्माण, संस्कृति एवं खेलकूद जैसे सहयोग के संभावित क्षेत्रों पर भी चर्चा की।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़