• हाफिज सईद के घर के बाहर बम धमाके मामले में तीन और लोग हुए गिरफ्तार

पंजाब पुलिस के एक अन्य अधिकारी ने बताया कि डेविड ने अपनी वह कार उस संदिग्ध को मुहैया कराई थी, जो बोर्ड ऑफ रेवेन्यू सोसायटी जौहर टाउन में सईद के घर के बाहर पुलिस पिकेट पर खड़ी थी और रिमोट कंट्रोल के जरिए विस्फोट होने से 15 मिनट पहले वहां से निकल गई थी।

लाहौर। पाकिस्तानी सुरक्षा एजेंसियों ने 2008 के मुंबई आतंकवादी हमले के षड्यंत्रकर्ता और प्रतिबंधित जमात-उद-दावा (जेयूडी) के प्रमुख हाफिज सईद के घर के बाहर कार बम विस्फोट के लिए जिम्मेदार एक प्रमुख व्यक्ति की पहचान की है और मामले के सिलसिले में तीन और लोगों को गिरफ्तार किया है। अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी। एक अधिकारी ने बताया कि आतंकवाद निरोधी विभाग (सीटीडी) की तीन टीमों को कराची, पेशावर और शेखूपुरा में विस्फोट में शामिल लोगों के बारे में अधिक जानकारी जुटाने के लिए भेजा गया है। पंजाब प्रांत के कानून मंत्री बशारत रजा के अनुसार, बुधवार को हुए विस्फोट के सिलसिले में अब तक आठ संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। इस विस्फोट में तीन लोगों की मौत हो गई थी और 21 अन्य घायल हो गए थे।

इसे भी पढ़ें: जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के मामले में डेरेक चौविन को 22 साल छह महीने जेल की सजा

सीटीडी के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘मुख्य संदिग्ध पीटर पॉल डेविड की सूचना पर लाहौर विस्फोट के सिलसिले में लाहौर, शेखूपुरा और पेशावर से तीन और संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया है।’’ उन्होंने बताया कि तीनों संदिग्ध डेविड के संपर्क में थे, जिसकी कार विस्फोट में इस्तेमाल की गई थी। उन्होंने बताया कि जांचकर्ता विस्फोट के ‘षड्यंत्रकारियों’ तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं। एक अन्य अधिकारी ने बताया कि विस्फोट के षड्यंत्रकर्ता की पहचान कर ली गई है और उसका नाम समीउल्लाह है, जो खैबर पख्तूनख्वा (केपीके) प्रांत का रहने वाला है। उन्होंने कहा, ‘‘वर्तमान में समीउल्लाह दुबई में रह रहा है और उसके भाई ने कार में विस्फोटक रखा था।’’ उन्होंने बताया कि पुलिस समीउल्लाह के भाई की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है। उन्होंने कहा, ‘‘कल हमारी टीम ने महमूदाबाद (कराची दक्षिण) में डेविड के आवास पर छापा मारा था और उसकी यात्रा तथा अन्य महत्वपूर्ण दस्तावेज जब्त किए थे।’’

इसे भी पढ़ें: अफगानिस्तान और अमेरिका के बीच साझेदारी कायम रहेगी : जो बाइडेन

डेविड को विस्फोट के एक दिन बाद बृहस्पतिवार को लाहौर हवाई अड्डे से गिरफ्तार किया गया था। अधिकारी ने कहा कि डेविड के एमक्यूएम-लंदन से संबंध की भी जांच की जा रही है। मुहाजिर कौमी मूवमेंट (एमक्यूएम) पाकिस्तान में एक राजनीतिक दल है, जिसकी स्थापना 1984 में अल्ताफ हुसैन ने की थी। वर्तमान में, पार्टी दो मुख्य गुटों के बीच विभाजित है। एमक्यूएम-लंदन गुट का नियंत्रण हुसैन द्वारा किया जाता है, जो ब्रिटेन में स्व-निर्वासन में रह रहे हैं। ऐसा कहा जाता है कि डेविड के पास दोहरी नागरिकता है। अधिकारियों ने अभी तक पुष्टि नहीं की है कि उसकी अन्य राष्ट्रीयता बहरीन की है या संयुक्त अरब अमीरात की। अधिकारी के मुताबिक डेविड की पत्नी और एक बेटा पुलिस छापेमारी से पहले कराची स्थित अपने घर से निकल चुके थे। पंजाब पुलिस के एक अन्य अधिकारी ने बताया कि डेविड ने अपनी वह कार उस संदिग्ध को मुहैया कराई थी, जो बोर्ड ऑफ रेवेन्यू सोसायटी जौहर टाउन में सईद के घर के बाहर पुलिस पिकेट पर खड़ी थी और रिमोट कंट्रोल के जरिए विस्फोट होने से 15 मिनट पहले वहां से निकल गई थी। कथित तौर पर कार में करीब 15 किलोग्राम विस्फोटक लगाया गया था। अज्ञात आतंकियों के खिलाफ धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। गौरतलब है कि 71 वर्षीय सईद आतंक वित्त पोषण मामलों में लाहौर की कड़ी सुरक्षा वाली कोट लखपत जेल में सजा काट रहा है।