• जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के मामले में डेरेक चौविन को 22 साल छह महीने जेल की सजा

अमेरिका में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के मामले में मिनियापोलिस के पूर्व पुलिस अधिकारी डेरेक चौविन को 22 साल छह महीने जेल की सजा सुनायी गयी है। चौविन ने फ्लॉयड की गर्दन को अपने घुटने से दबाया था जिसके कारण दम घुटने से उनकी मौत हो गयी थी।

मिनियापोलिस (अमेरिका)। अमेरिका में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के मामले में मिनियापोलिस के पूर्व पुलिस अधिकारी डेरेक चौविन को 22 साल छह महीने जेल की सजा सुनायी गयी है। चौविन ने फ्लॉयड की गर्दन को अपने घुटने से दबाया था जिसके कारण दम घुटने से उनकी मौत हो गयी थी। इस घटना के बाद अमेरिका में नस्ली भेदभाव के खिलाफ सबसे बड़ा आंदोलन हुआ था। यह फैसला ऐसे वक्त में आया जब करीब एक साल की चुप्पी के बाद चौविन ने फ्लॉयड के परिवार के प्रति संवेदना प्रकट की और उम्मीद जतायी कि आखिरकार अब ‘‘उनके मन को कुछ शांति मिलेगी।’’ अश्वेत व्यक्ति की हत्या के मामले में किसी पुलिस अधिकारी को दी गयी अब तक कि यह सबसे लंबी अवधि वाली जेल की सजा है।

इसे भी पढ़ें: दलितों को लुभाने की कोशिश में भाजपा, यूपी में अंबेडकर स्मारक बनाएगी योगी सरकार

हालांकि फ्लॉयड के परिवार और अन्य अब भी निराश है क्योंकि अभियोजकों ने इस अपराध के लिए चौविन को 30 साल की सजा देने का अनुरोध किया था। अच्छे बर्ताव पर चौविन (45) को अपनी दो तिहाई सजा पूरी करने या करीब 15 साल जेल में बिताने के बाद पैरोल पर रिहा किया जा सकता है। मिनियापोलिस प्रदर्शन की नेता नेकिमा लेवी आर्मस्ट्रॉन्ग ने कहा, ‘‘सिर्फ सजा की अवधि अधिक होना ही पर्याप्त नहीं है।’’ न्यायाधीश पीटर काहिल ने राज्य के दिशानिर्देशों से ऊपर उठकर इसके तहत तय 12 साल छह महीने की सजा से अधिक का दंड सुनाया और चौविन को अपने अधिकार और पद के दुरुपयोग तथा फ्लॉयड के प्रति क्रूरता दिखाने का दोषी पाया।

इसे भी पढ़ें: Anti Drug Addiction Day: पीएम मोदी ने कहा, नशा ना तो अच्छी चीज और ना ही स्टाइल की अभिव्यक्ति

फ्लॉयड के परिवार के वकील बेन क्रम्प ने कहा कि परिवार को उम्मीद है कि चाौविन को आगामी संघीय नागरिक अधिकारों की सुनवाई के दौरान अधिकतम सजा होगी। उन्होंने कहा कि यह मिनिसोटा में किसी पुलिस अधिकारी को मिली अब तक की सबसे लंबी अविध की सजा है। उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन वास्तविक न्याय तभी होगा जब अमेरिका में अश्वेत पुरूषों और महिलाओं को महज रंग के आधार पर पुलिस के हाथों मारे जाने का डर नहीं होगा।