• ग्रामीण अध्यापक से नेता बने पेड्रो कास्टिलो पेरू के राष्ट्रपति निर्वाचित, कीको फुजिमोरी को 44,000 वोटों से हराया

‘पेरू लिब्रे पार्टी’ के चुनाव चिह्न बेंत के आकार की पेंसिल के साथ पेड्रो कास्टिलो ने ‘‘अमीर देश में अब कोई गरीब नहीं होगा’’ का नारा लोकप्रिय किया।

लीमा। ग्रामीण अध्यापक से नेता बने पेड्रो कास्टिलो पेरू में 40 साल में अब तक की सबसे लंबी मतगणना के बाद राष्ट्रपति पद के चुनाव में विजयी घोषित किए गए। कास्टिलो ने दक्षिणपंथी नेता कीको फुजिमोरी को मात्र 44,000 मतों के अंतर से हराया। कास्टिलो के समर्थकों में पेरू के गरीबों एवं ग्रामीणों की बड़ी संख्या है। इतिहासकारों का कहना है कि कास्टिलो पेरू के राष्ट्रपति बनने वाले पहले किसान हैं। निर्वाचन अधिकारियों ने सोमवार को अंतिम आधिकारिक परिणाम जारी गए। 

इसे भी पढ़ें: कोपा अमेरिका: नेमार के बदौलत फाइनल में पहुंची ब्राजील, सेमीफाइनल में पेरू को हराया 

दक्षिण अमेरिकी देश में हुए चुनाव के एक महीने से अधिक समय बाद चुनाव की घोषणा की गई है। ‘पेरू लिब्रे पार्टी’ के चुनाव चिह्न बेंत के आकार की पेंसिल के साथ कास्टिलो ने ‘‘अमीर देश में अब कोई गरीब नहीं होगा’’ का नारा लोकप्रिय किया। दुनिया के दूसरे सबसे बड़े तांबा उत्पादक पेरू की अर्थव्यवस्था पर कोरोनो वायरस महामारी की बुरी मार पड़ी है और देश की करीब एक-तिहाई आबादी गरीब हो गई है।