कश्मीर मुद्दे को लेकर पाकिस्तानी-अमेरिकी समुदाय ने भारतीय दूतावास के बाहर किया प्रदर्शन

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Aug 7 2019 3:22PM
कश्मीर मुद्दे को लेकर पाकिस्तानी-अमेरिकी समुदाय ने भारतीय दूतावास के बाहर किया प्रदर्शन
Image Source: Google

जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा वापस लिये जाने के खिलाफ यहां भारतीय दूतावास के बाहर पाकिस्तानी-अमेरिकी समुदाय समेत मुस्लिम अधिकार कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। भारत सरकार ने सोमवार को जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को हटाकर राज्य को दो संघ शासित प्रदेशों, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में विभाजित कर दिया था।

वाशिंगटन। जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा वापस लिये जाने के खिलाफ यहां भारतीय दूतावास के बाहर पाकिस्तानी-अमेरिकी समुदाय समेत मुस्लिम अधिकार कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। भारत सरकार ने सोमवार को जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को हटाकर राज्य को दो संघ शासित प्रदेशों, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में विभाजित कर दिया था।

इसे भी पढ़ें: इस्लामाबाद में दिखे ‘‘आज जम्मू-कश्मीर लिया है" के बैनर, पाक पुलिस परेशान

प्रदर्शनकारियों ने मंगलवार को प्रदर्शन के दौरान भारत पर कश्मीर में मानवाधिकारों के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और संयुक्त राष्ट्र से इस विवादित मुद्दे के समाधान के लिये दखल देने की मांग की। प्रदर्शनकारियों ने भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ नारेबाजी भी की। वाशिंगटन में भारतीय दूतावास के बाहर अमेरिकी-इस्लामिक संबंधों की परिषद (सीएआईआर) के राष्ट्रीय कार्यकारी निदेशक निहाद अवाद ने कहा,  कश्मीर के लोग आजादी, अपने अधिकारों और न्याय के हकदार हैं। 

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान ने एक "भारतीय जासूस’’ को पकड़ने का किया दावा, हो रही है पुछताछ



अवाद ने कहा कि कश्मीर घाटी में मानवीय संकट पनप रहा है। विदेश मंत्रालय को भारत सरकार से तुरंत संरक्षित दर्जे को बहाल करने, कर्फ्यू हटाने और शांतिपूर्ण वार्ता शुरू करने का आग्रह करना चाहिये। कश्मीर के अलगगाववादी नेता गुलाम नबी फई ने शनिवार को भारतीय दूतावास और व्हाइट हाउस के सामने बड़े पैमाने पर प्रदर्शन का ऐलान किया है। फई पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के कहने पर लॉबिंग करने के आरोपों में अमेरिका की संघीय जेल में सजा काट चुके हैं।

 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story