गरीब पाकिस्तान हो रहा और गरीब, पेट्रोल की कीमत 145; आम जनता का हाल-बेहाल

गरीब पाकिस्तान हो रहा और गरीब, पेट्रोल की कीमत 145; आम जनता का हाल-बेहाल

विपक्ष के विरोध के बीच घटती प्रति व्यक्ति आय पाकिस्तान की सत्ताधारी पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ(PTI) के सामने चुनौतियां बढ़ती नजर आ रही है। इसके अलावा, पीटीआई सरकार के कई गलत फैसलों के कारण अमेरिकी डॉलर पाकिस्तानी रुपये के मुकाबले मजबूत है।

पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति काफी बड़े संकट का सामना कर रही है। बता दें कि, पाकिस्तान में मंहगाई 9 फीसदी तक ऊपर पहुंच गई है। द न्यूज इंटरनेशनल की एक रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान की प्रति व्यक्ति की आय साल 2018 में 1482 डॉलर से घटकर 2021 में 1260 तक पहुंच गई है। इसके अलावा, भारत के पड़ोसी देश की अर्थव्यवस्था में 16 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। बता दें कि, साल 2008-13 के दौरान पाकिस्तान का सकल घरेलू उत्पाद 36 फीसदी की उछाल के साथ दर्ज किया गया था। इस समय पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी सत्ता में बनी हुई थी। वहीं साल 2013-2018 के बीच पाकिस्तान की GDP में 36 फीसदी का और उछाल आया था।

इसे भी पढ़ें: RBI की Monetary Policy के बारे में सरल भाषा में समझें, शक्तिकांत दास के फैसले से आपके जीवन पर क्या असर होगा?

विपक्ष के विरोध के बीच घटती प्रति व्यक्ति आय पाकिस्तान की सत्ताधारी पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ(PTI) के सामने चुनौतियां बढ़ती नजर आ रही है। इसके अलावा, पीटीआई सरकार के कई गलत फैसलों के कारण अमेरिकी डॉलर पाकिस्तानी रुपये के मुकाबले मजबूत है। एएनआई की एक रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान रुपये के कमजोर होने से प्रति लीटर पेट्रोल की कीमत अब लगभग 145.82 रुपये तक पहुंच गई है। फिलहाल पाकिस्तान सरकार देश में महंगाई के पीछे वैश्विक मंहगाई को कारण बता रही है। 






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...