पाकिस्तान ने अफगानिस्तान में टीटीपी के पांच हजार आतंकियों के होने का किया दावा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 28, 2021   19:20
पाकिस्तान ने अफगानिस्तान में टीटीपी के पांच हजार आतंकियों के होने का किया दावा

पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जाहिद हफीज चौधरी ने कहा, “अफगानिस्तान का बयान जमीनी हकीकत के विपरीत है और संयुक्त राष्ट्र की विभिन्न रिपोर्टें भी इसकी पुष्टि करती हैं कि पांच हजार से अधिक लड़ाकों वाला संगठन टीटीपी अफगानिस्तान में मौजूद है।”

इस्लामाबाद। पाकिस्तान ने सोमवार को दावा किया कि तहरीक ए तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) के पांच हजार से अधिक आतंकवादी अफगानिस्तान में मौजूद हैं। इससे एक दिन पहले अफगानिस्तान ने इस आतंकवादी संगठन की मौजूदगी से इंकार किया था। पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जाहिद हफीज चौधरी ने कहा, “अफगानिस्तान का बयान जमीनी हकीकत के विपरीत है और संयुक्त राष्ट्र की विभिन्न रिपोर्टें भी इसकी पुष्टि करती हैं कि पांच हजार से अधिक लड़ाकों वाला संगठन टीटीपी अफगानिस्तान में मौजूद है।” चौधरी ने अफगान विदेश मंत्रालय के बयान के बारे में मीडिया द्वारा पूछे गए सवालों के उत्तर में यह जानकारी दी। अफगान विदेश मंत्रालय ने कहा था कि टीटीपी की न तो स्थापना अफगानिस्तान में हुई थी और न ही वह यहां सक्रिय है।

इसे भी पढ़ें: अमेरिका ने मिलिशिया समूह पर की बड़ी कार्रवाई, इराक और सीरिया के ठिकानों पर एयर स्ट्राइक

रविवार को अफगान विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया, “अन्य आतंकवादी संगठनों के साथ ही यह संगठन भी अफगानिस्तान में शांति, स्थायित्व और समृद्धि का दुश्मन है। इस आतंकी संगठन के खिलाफ अफगान सरकार, बिना किसी भेदभाव के उसी प्रकार लड़ती है जैसे किसी अन्य आतंकी समूह से मुकाबला किया जाता है।” मंत्रालय ने कहा कि अफगानिस्तान ने लगातार संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों और दोहा समझौते का समर्थन किया है जिसके तहत तालिबान को टीटीपी, लश्कर ए तैयबा, अल कायदा आदि आतंकी संगठनों से संबंध तोड़ने को कहा गया है। अफगानिस्तान के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता चौधरी ने सोमवार को कहा कि पिछले कई सालों में टीटीपी ने अफगानिस्तान की जमीन से पाकिस्तान में कई आतंकी हमलों को अंजाम दिया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।