ऑस्ट्रेलिया में निजी डेटा की चोरी के मामले में हैकर की फिरौती की मांग की जांच करेगी पुलिस

hacker
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
‘ऑस्ट्रेलियन ब्रॉडकास्टिंग कॉर्प’ ने जब ऑप्टस की मुख्य कार्यकारी कैली बायर रोस्मारिन से पूछा कि क्या हैकर ने ऑप्टस द्वारा एक सप्ताह में 10 लाख डॉलर का भुगतान नहीं करने पर शेष डेटा को बेचने की धमकी दी है, तो उन्होंने कहा, ‘हमने डार्क वेब पर इस तरह की पोस्ट देखी है।’

ऑस्ट्रेलिया पुलिस एक हैकर द्वारा देश की दूसरी सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी ऑप्टस के 10,000 ग्राहकों के निजी डेटा लीक किए जाने और क्रिप्टोकरंसी में 10 लाख डॉलर की फिरौती मांगे जाने के मामले की जांच कर रही है। कंपनी की मुख्य कार्यकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी। ऑस्ट्रेलिया सरकार ने 98 लाख ग्राहकों के व्यक्तिगत डेटा के उल्लंघन के लिए ऑप्टस पर साइबर सुरक्षा को लेकर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है।

साइबर सुरक्षा संबंधी मामलों पर लिखने वाले जेरेमी किर्क ने कहा कि ऑप्टसडेटा नाम का इस्तेमाल करने वाले कथित हैकर ने ‘डार्क वेब’ पर 10,000 ऑप्टस ग्राहकों के डेटा जारी किए और धमकी दी कि यदि ऑप्टस फिरौती की रकम नहीं देती है, तो आगामी चार दिन तक रोजाना दस-दस हजार और ग्राहकों के डेटा जारी किए जाएंगे। डार्क वेब ‘वर्ल्ड वाइड वेब’ का ऐसा हिस्सा होता है, जिस तक केवल किसी विशेष सॉफ्टवेयर की पहुंच होती है। इसके कारण इसका उपयोग करने वाला या वेबसाइट को चलाने वाला अपनी पहचान छुपाने में सक्षम होता है।

‘ऑस्ट्रेलियन ब्रॉडकास्टिंग कॉर्प’ ने जब ऑप्टस की मुख्य कार्यकारी कैली बायर रोस्मारिन से पूछा कि क्या हैकर ने ऑप्टस द्वारा एक सप्ताह में 10 लाख डॉलर का भुगतान नहीं करने पर शेष डेटा को बेचने की धमकी दी है, तो उन्होंने कहा, ‘‘हमने डार्क वेब पर इस तरह की पोस्ट देखी है।’’ ऑस्ट्रेलिया की संघीय पुलिस ने सोमवार को कहा था कि उसके जांचकर्ता इस साइबर हमले की जांच में अमेरिका के संघीय जांच ब्यूरो (एफबीआई) समेत विभिन्न विदेशी एजेंसी की भी मदद ले रहे हैं।

पुलिस ने जांच जारी होने के कारण इस मामले में मंगलवार को कोई और टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। रोस्मारिन ने कहा कि जांचकर्ता हर पहलू की जांच कर रहे हैं और अपराधी का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं। इस बीच, किर्क ने अपनी वेबसाइट ‘बैंक इंफो सिक्योरिटी’ में लिखा कि ऑप्टसडेटा ने बाद में चोरी किए गए डेटा के तीन नमूनों और इस संबंधी पोस्ट को हटा दिया। ऑप्टसडेटा ने किर्क को एक नई पोस्ट का लिंक भेजा, जिसमें फिरौती की मांग को वापस लेने की बात की गई और दावा किया गया कि चोरी किए गए डेटा को हटा दिया गया है।

इस पोस्ट के जरिए ऑप्टस के साथ-साथ इसके ग्राहकों से माफी मांगी गई है। पोस्ट में लिखा है, ‘‘बहुत लोगों की नजरें हैं। हम किसी को डेटा नहीं बेचेंगे।’’ पोस्ट में यह भी कहा गया कि ऑप्टस ने फिरौती का भुगतान नहीं किया है। किर्क ने कहा कि उन्होंने ऑप्टसडेटा से पूछा कि उसने अपना विचार क्यों बदल दिया, लेकिन इसका कोई जवाब नहीं मिला। ऑस्ट्रेलियाई सूचना एवं गोपनीयता आयुक्त एंजलेने फाल्क ने कहा कि नवीनतम पोस्ट ‘‘इस बात का संकेत देती है कि यह बहुत तेजी से बदल रहा घटनाक्रम है।’’

फाल्क ने कहा, ‘‘यह समुदाय के लिए बड़ी चिंताजनक घटना है। हमें यह सुनिश्चित करने पर ध्यान देने की जरूरत है कि समुदाय की निजी जानकारी को खतरे से बचाने के लिए उसकी सुरक्षा के लिए सभी कदम उठाए जाएं।’’ वेब सुरक्षा सलाहकार ट्रॉय हंट ने इस बात पर संदेह जताया कि यह माफी हैकर ने ही मांगी है और उन्होंने डेटा की सुरक्षा को लेकर भी चिंता जताई। देश की साइबर सुरक्षा मंत्री क्लेयर ओ नील ने इस घटना को ‘‘ऑस्ट्रेलिया के इतिहास में ग्राहकों की जानकारी की अप्रत्याशित चोरी’’ करार दिया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़