अमेरिका: कैपिटल भवन में हुई हिंसा के मामले की सुनवाई में दंगाइयों के नस्लवाद का मामला उठा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 28, 2021   13:12
अमेरिका: कैपिटल भवन में हुई हिंसा के मामले की सुनवाई में दंगाइयों के नस्लवाद का मामला उठा

यूएस कैपिटल पुलिस के दो अधिकारियों और वॉशिंगटन डीसी में मेट्रोपोलिटन पुलिस विभाग के दो अधिकारियों ने मंगलवार को सुनवाई के दौरान कहा कि कैपिटल भवन पर हिंसा के दौरान उन्हें नस्लवादी टिप्पणियां झेलनी पड़ी।

वॉशिंगटन। वॉशिंगटन डीसी में अमेरिकी संसद भवन यूएस कैपिटल में छह जनवरी को हुई हिंसा के मामले की सुनवाई के दौरान पुलिस अधिकारियों ने बताया कि सैकड़ों दंगाइयों ने उन पर न केवल हथियारों, स्टेन गन और हाथों से हमले किए, बल्कि उनके खिलाफ नस्लवादी टिप्पणियां भी कीं और उन पर देशद्रोह के आरोप लगाए। यूएस कैपिटल पुलिस के दो अधिकारियों और वॉशिंगटन डीसी में मेट्रोपोलिटन पुलिस विभाग के दो अधिकारियों ने मंगलवार को सुनवाई के दौरान कहा कि कैपिटल भवन पर हिंसा के दौरान उन्हें नस्लवादी टिप्पणियां झेलनी पड़ी।

इसे भी पढ़ें: US विदेश विभाग का बड़ा बयान, भारत के ग्लोबल पावर के तौर पर उभरने का समर्थन करता है अमेरिका

कैपिटल पुलिस के अश्वेत अधिकारी हैरी डन ने सांसदों ने बताया कि जब उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के समर्थक दंगाइयों को बताया कि उन्होंने राष्ट्रपति जो बाइडन को अपना वोट दिया है और उनका वोट गिना जाना चाहिए तो भीड़ में मौजूद लोगों ने उनके खिलाफ नस्लवादी टिप्पणियां कीं। कैपिटल पुलिस बल में 12 साल से अधिक समय से सेवाएं दे रहे डन ने बताया कि इसके बाद वहां मौजूद करीब 20 लोगों ने उनके खिलाफ नस्लवादी एवं आपत्तिजनक टिप्पणियां कीं। उन्होंने कहा कि वर्दी में उनके खिलाफ कभी किसी ने इस प्रकार की टिप्पणियां नहीं की और उस रात वह कैपिटल रोटंडा में बैठकर रोए थे। डन ने बताया कि एक अन्य अश्वेत अधिकारी ने भी उन्हें बताया था कि दंगाइयों ने उन्हें धमकाया और उनके खिलाफ नस्लवादी टिप्पणियां कीं। सुनवाई कर रहे पैनल के अध्यक्ष एवं मिसिसिपी के डेमोक्रेटिक सांसद बेनी थॉम्पसन ने डन से पूछा कि लोकतंत्र के भवन में अफ्रीकी अमेरिकी अधिकारी होने के नाते नस्लवाद और नस्ली अपमान का सामना करने पर उनके मन में क्या विचार आए। इस पर डन ने कहा, ‘‘यह बहुत दु:ख पहुंचाने वाली बात है कि लोग केवल आपकी त्वचा के रंग के कारण आपके ऊपर हमला करें। मेरा भी खून लाल है। मैं एक अमेरिकी नागरिक हूं। मैं एक पुलिस अधिकारी हूं। मैं एक शांति अधिकारी हूं।’

इसे भी पढ़ें: अमेरिका की पूर्व सांसद का फोन छीनकर भागा हमलावर, ट्विटर अकाउंट पर दी जानकारी

कैपिटल पुलिस के एक अन्य अधिकारी सार्जेंट एक्विलिनो गोनेल ने अपने आंसू पोंछते हुए कहा कि वह डोमिनिकन गणराज्य से अमेरिका आए, लेकिन यहां भी उन्हें ऐसे अमेरिकियों का सामना करना पड़ा, जो छह जनवरी को हुई हिंसा में कार्रवाई करने के लिए उन्हें देशद्रोही मानते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘अमेरिका और दुनिया ने देखा कि कैपिटल में हमारे साथ क्या हुआ था, लेकिन हमें उतना समर्थन नहीं मिला, जितनी हमें आवश्यकता थी।’’ गोनेल ने कहा, “इसके विपरीत, पिछले साल ‘ब्लैक लाइव्ज मैटर’ प्रदर्शन के दौरान यूएस कैपिटल पुलिस को पूरा समर्थन मिला।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...