स्वीडन ने दो और लोग जासूसी के संदेह में गिरफ्तार

Arrest
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
स्वीडन के अभियोजन प्राधिकरण ने एक संक्षिप्त बयान में कहा कि गिरफ्तारियां मंगलवार सुबह की गईं। इसमें शामिल दूसरे देश की पहचान नहीं बतायी गयी। स्वीडन की सुरक्षा एजेंसी ने कहा कि अभियान, जिसमें घरों की तलाशी शामिल थी, पुलिस और स्वीडिश सशस्त्र बलों की सहायता से चलाया गया।

स्वीडिश अधिकारियों ने मंगलवार को कहा कि जासूसी के संदेह में दो और लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जिनमें से एक “स्वीडन और एक विदेशी शक्ति के खिलाफ गंभीर अवैध खुफिया गतिविधियों” का आरोपी है। यह जानकारी स्वीडिश अधिकारियों ने मंगलवार को दी। स्वीडन के अभियोजन प्राधिकरण ने एक संक्षिप्त बयान में कहा कि गिरफ्तारियां मंगलवार सुबह की गईं। इसमें शामिल दूसरे देश की पहचान नहीं बतायी गयी। स्वीडन की सुरक्षा एजेंसी ने कहा कि अभियान, जिसमें घरों की तलाशी शामिल थी, पुलिस और स्वीडिश सशस्त्र बलों की सहायता से चलाया गया।

जासूसी एजेंसी ने कहा कि जांच “कुछ समय से चल रही है”। गिरफ्तारियां स्टॉकहोम इलाके में सुबह-सुबह की गईं। गिरफ्तार किए गए लोगों के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई। स्वीडन की घरेलू सुरक्षा सेवा के एक प्रवक्ता फ्रेड्रिक हॉल्टग्रेन फ्रीबर्ग, जिसे इसके संक्षिप्त नाम एसएपीओ के नाम से जाना जाता है, ने आफ्टोनब्लाडेट सांध्य समाचार पत्र को बताया कि “संदिग्धों की जल्द गिरफ्तारी आवश्यकता थी”। स्वीडन के सशस्त्र बलों के एक प्रवक्ता ने समाचार पत्र को बताया कि उन्होंने “दो हेलीकाप्टरों के साथ एसएपीओ का समर्थन किया था”।

अभियोजन प्राधिकरण ने जोर देकर कहा कि यह मामला ईरान में जन्मे दो भाइयों से जुड़ा नहीं था, जिन पर इस महीने की शुरुआत में स्वीडन में कथित रूप से रूस के लिए जासूसी करने का आरोप लगाया गया था। स्वीडन ने 11 नवंबर को, 2011 से 2021 तक लगभग एक दशक तक रूस और उसकी सैन्य खुफिया सेवा जीआरयू के लिए कथित तौर पर जासूसी करने के लिए दो स्वीडिस नागरिकों पर आरोप लगाया। दोनों में से एक स्वीडन की घरेलू खुफिया एजेंसी के लिए काम करता था। दोनों ने किसी भी गलत काम से इनकार किया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़