• चीन ने वुहान के लैब को नोबेल पुरस्कार देने की कही बात, ट्विटर यूजर्स ने निकाली भड़ास

चीन का कहना है कि वुहान के इस लैब को कोरोना वायरस की खोज के लिए नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया जाना चाहिए। एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोलते हुए चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाउ लिजियन ने कहा यह मानने के लिए लोगों की आलोचना की कि कोरोना वायरस की उत्पत्ति वुहान में हुई थी।

कोरोना वायरस ने अपना कहर पूरी दुनिया पर बरपाया है। कोई भी देश ऐसा नहीं बचा जहां कोरोना का यह घातक वायरस ना पहुंचा हो। कई रिपोर्ट्स में ये दावा किया गया है कि कोरोना वायरस चीन के वुहान के एक लैब से फैला है। अब ऐसे में चीन इसी लैब को सम्मानित करने की बात कर रहा है। चीन का कहना है कि वुहान के इस लैब को कोरोना वायरस की खोज के लिए नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया जाना चाहिए। एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोलते हुए चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाउ लिजियन ने कहा यह मानने के लिए लोगों की आलोचना की कि कोरोना वायरस की उत्पत्ति वुहान में हुई थी क्योंकि यह पहली बार वहां पाया गया था और इस सिद्धांत को खारिज कर दिया कि यह प्रयोगशाला में बनाया गया था।

इसे भी पढ़ें: LAC का दौरा करेंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सेना का बढ़ाएंगे पराक्रम

अब चीन के इस लैब को नोबल पुरस्कार देने की बात पर ट्विटर पर लोगों की प्रतिक्रियाएं सामने आई हैं। जिसमें लोगों ने जमकर अपनी भड़ास निकाली है। एक ट्विटर यूजर ने लिखा चीन में वुहान लैब चीन के अनुसार चिकित्सा के लिए नोबेल पुरस्कार की हकदार है; तो ISIS नोबेल शांति पुरस्कार का दिया जाना चाहिए।  वहीं एक दूसरे यूजर ने लिखा चीन वाले खुद नोबेल पुरस्कार लेने आएंगे या घर देने जाना पड़ेगा। एक दूसरे यूजर ने लिखा विश्व अर्थव्यवस्था को नष्ट करने 

लाखों लोगों को गरीबी में वापस लाने और लाखों लोगों की हत्या के लिए नोबेल पुरस्कार दिया जाना चाहिए। एक और यूजर ने लिखा कि चलो मान लिया वुहान लैब को वायरस की पहचान के लिए नोबेल पुरस्कार मिले, आपको लगता है कि वे इससे लड़ने के लिए एक वैक्सीन विकसित करने के लिए बेहतर काम करेंगे। ट्विटर यूजर ने लिखा चीन तीसरा विश्व युद्ध शुरु करने के लिए नोबेल पुरस्कार दिया जाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: भारतीय सीमा के पास पहुंची चीन की 'बुलेट', रणनीतिक रूप से अहम है ये प्रोजक्ट

एक और यूजर ने लिखा हां, अगर नोबल पुरस्कार एक महामारी वायरस बनाने के लिए दिया जाता है, तो #WuhanLab लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार का हकदार है। वे सिर्फ दुनिया को छेड़ रहे हैं। #HaveSomeShame #चीन #COVID19

साम्या दास गुप्ता नाम के एक यूजर ने लिखा हां सच में। नोबेल हमेशा अपने-अपने क्षेत्र में जमीन तोड़ने के लिए दिया जाता है। वुहान वायरस वायरोलॉजी के क्षेत्र में एक ग्राउंड ब्रेकिंग वायरस था और है। बस मान लीजिए कि इसे वुहान लैब में बनाया गया था और हर देश नोबेल के लिए सिफारिश करेगा।