अफगानिस्तान के काबुल से 120 लोग पहुंचे कजाखस्तान,जरूरतमंद लोगों को सहायता दे रहा UN

UN
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र का अभी ध्यान वहां मौजूद अपने हजारों जवानों और सहयोगियों की सुरक्षा पर है और लाखों जरूरतमंद अफगान लोगों को आवश्यक मानवीय सहायता तथा अन्य तरह की मदद मुहैया करवाने पर है।

संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र ने अफगानिस्तान के काबुल से 120 लोगों को कजाखस्तान के अल्माटी पहुंचाया है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने बताया कि बीते हफ्ते में यह इस तरह की दूसरी उड़ान थी। दुजारिक ने रविवार को संवाददाताओं को सूचित किया कि संयुक्त राष्ट्र के अधिकारियों और अफगानिस्तान में संरा के सहयोगियों के रूप मे काम करने वाले कई गैर-सरकारी संगठनों के सदस्यों समेत 120 लोगों को काबुल से निकाला गया। उन्होंने बताया कि संरा ने इन लोगों को 22 अगस्त को काबुल से अल्माटी पहुंचाया गया था। इसके कुछ दिन पहले संरा ने अपने 100 जवानों को काबुल में ‘सुरक्षा एवं अन्य अवरोधकों’ के मद्देनजर अफगानिस्तान से कजाखस्तान भेजा था। दुजारिक ने कहा, ‘‘संरा के अधिकारियों का एक हिस्सा जो आज काबुल से रवाना हुआ वह अल्माटी में रहकर काम करता रहेगा।’’

इसे भी पढ़ें: अफगानिस्तान से निकाले गए 146 भारतीय दोहा से भारत लौटे

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र का ‘‘अभी ध्यान वहां मौजूद अपने हजारों जवानों और सहयोगियों की सुरक्षा पर है और लाखों जरूरतमंद अफगान लोगों को आवश्यक मानवीय सहायता तथा अन्य तरह की मदद मुहैया करवाने पर है।’’ पिछले हफ्ते, दुजारिक ने संवाददाताओं को बताया था कि संरा के 100 कर्मियों को काबुल से अल्माटी भेजा गया है जहां रहकर वह काम करते रहेंगे। दुजारिक ने कहा, ‘‘जैसा कि संरा महासचिव ने 16 अगस्त को सुरक्षा परिषद को बताया था, अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र की मौजूदगी सुरक्षा हालात के अनुरूप होगी। काबुल तथा देश के अन्य हिस्सों में वर्तमान में सुरक्षा एवं अन्य अवरोधकों के मद्देनजर, संरा कर्मियों के एक हिस्से को देश से बाहर ले जाने का फैसला किया गया। हालात को देखते हुए जवानों को अफगानिस्तान वापस भेजा जाएगा।’’ उन्होंने कहा कि अधिकतर मानवीय सेवा कर्मी अफगानिस्तान में ही हैं और लाखों जरूरतमंद लोगों को अहम सहायता दे रहे हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़