J&K में पिछले 15 दिनों में हुई 10 मुठभेड़ में 15 आतंकवादी ढेर, पुंछ और राजौरी के जंगलों में चल रहा तलाशी अभियान

J&K में पिछले 15 दिनों में हुई 10 मुठभेड़ में 15 आतंकवादी ढेर, पुंछ और राजौरी के जंगलों में चल रहा तलाशी अभियान

आतंकवादियों ने गोलीबारी शुरू कर दी। जिसका सुरक्षाबलों ने मुंहतोड़ जवाब दिया। इस मुठभेड़ में 2 सुरक्षाकर्मी जख्मी हो गए। आईजीपी कश्मीर विजय कुमार ने बताया कि मारे गए आतंकवादियों में से एक की पहचान आदिल आह वानी के तौर पर हुई है।

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना ने आतंक विरोधी अभियान चलाया हुआ है। इसी बीच शोपियां में सुरक्षाकर्मियों ने मुठभेड़ में 2 आतंकवादियों को मार गिराया है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक सुरक्षाबलों  को शोपियां जिले के द्रागड इलाके में आतंकवादियों की मौजूदगी की जानकारी मिली। जिसके बाद उन्होंने तलाशी अभियान शुरू किया गया। 

इसे भी पढ़ें: श्रीनगर के लाल चौक पर CRPF की महिलाकर्मियों को किया गया तैनात, 30 साल में पहली बार महिलाओं की भी हुई जांच 

इसी बीच आतंकवादियों ने गोलीबारी शुरू कर दी। जिसका सुरक्षाबलों ने मुंहतोड़ जवाब दिया। इस मुठभेड़ में 2 सुरक्षाकर्मी जख्मी हो गए। आईजीपी कश्मीर विजय कुमार ने बताया कि मारे गए आतंकवादियों में से एक की पहचान आदिल आह वानी के तौर पर हुई है। जो जुलाई 2020 से एक्टिव है।

15 दिनों में हुई 10 मुठभेड़ 

जम्मू-कश्मीर में पिछले 15 दिनों में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच 10 मुठभेड़ हुई। जिसमें 15 आतंकवादियों को मार गिराया गया है। इसकी जानकारी खुद आईजीपी कश्मीर विजय कुमार ने दी।

इसे भी पढ़ें: भारत में घुसपैठ की फिराक में LeT के दो आतंकी समूह, पुंछ में चल रहा तलाशी अभियान, सेना प्रमुख ने किया LoC का दौरा 

10 दिन से जारी है तलाशी अभियान

नियंत्रण रेखा के करीब पुंछ सेक्टर और राजौरी सेक्टर के जंगलों में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच कई बार मुठभेड़ की खबरें सामने आ चुकी हैं। जिसके बाद नौ दिनों से सुरक्षाबलों का तलाशी अभियान जारी है। अधिकारियों से मिली जानकारी के मुताबिक यह इलाका पर्वतीय है और जंगल काफी ज्यादा घना है जिससे तलाशी अभियान मुश्किल और बेहद खतरनाक हो गया है। अभी तक इलाके में छिपे आतंकवादियां से तीन बार सामना हो चुका है।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।