झारखंड के जामताड़ा में बड़ा हादसा, तेज आंधी के चलते पलटी नाव, 16 लोग डूबे, NDRF मे संभाला मोर्चा

झारखंड के जामताड़ा में बड़ा हादसा, तेज आंधी के चलते पलटी नाव, 16 लोग डूबे, NDRF मे संभाला मोर्चा
प्रतिरूप फोटो

हादसे के तुरंत बाद ही राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल (एनडीआरएफ) ने मोर्चा संभालते हुए रेस्क्यू ऑपरेशन लॉन्च किया और डूब लोगों की तलाश में जुट गई। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक जामताड़ा जिला प्रशासन ने बताया कि बारबेंदिया पुल के पास नाव पलटने से 16 लोग लापता हो गए। नाव में 18 लोग सवार थे।

रांची। झारखंड के जामताड़ा में बड़ा हादसा हो गया है। आपको बता दें कि झारखंड के बारबेंदिया और जामताड़ा के बीच बराकर नदी में नाव पलटने से 18 से लोगों के डूबने की सूचना सामने आ रही है। हादसा शाम को उस वक्त हुआ जब नाव में सवार होकर लोग जामताड़ा की तरफ जा रहे थे। तभी अचानक आंधी की वजह से नाव पलट गई है और लोग डूब गए। बताया जा रहा है कि नाव में 18 लोग सवार थे और 4 लोगों को रेस्क्यू करके अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 

इसे भी पढ़ें: जेपी नड्डा के हेलीकॉप्टर की तेज हवा से भरभराकर गिरी स्कूल की दीवार, बलिया पहुंचे थे भाजपा अध्यक्ष 

हादसे के तुरंत बाद ही राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल (एनडीआरएफ) ने मोर्चा संभालते हुए रेस्क्यू ऑपरेशन लॉन्च किया और डूब लोगों की तलाश में जुट गई। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक जामताड़ा जिला प्रशासन ने बताया कि बारबेंदिया पुल के पास नाव पलटने से 16 लोग लापता हो गए। नाव में 18 लोग सवार थे, जो धनबाद से जामताड़ा जा रहे थे। 4 लोगों को रेस्क्यू कर अस्पताल भेजा गया। एनडीआरएफ मौके पर पहुंची और बचाव अभियान जारी है। 

इसे भी पढ़ें: झारखंड में सोरेन सरकार के दो साल पूरे, दो पहिया वाहनों को पेट्रोल पर मिली 25 रुपये की सब्सिडी 

बताया जा रहा है कि नाव में ज्यातार जामताड़ा जिले के निवासी सवार थे। जो धनबाद से मजदूरी करके अपने घर की तरफ लौट रहे थे। फिलहाल प्रशासन ने रेस्क्यू अभियान तेज कर दिया है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सभी के सुरक्षित होने की कामना की है। उन्होंने कहा कि जामताड़ा जिले में बीरगांव के पास नौका पलटने की दुर्भाग्यपूर्ण सूचना मिली है। जिला प्रशासन और एनडीआरएफ की टीम लोगों के रेस्क्यू ऑपरेशन का कार्य कर रही है। सभी सुरक्षित रहें, यही कामना करता हूं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।