हर साल पांच विद्यार्थियों को दिया जाएगा 'नेताजी सुभाष चंद्र बोस पराक्रम पुरस्कार': मुख्यमंत्री शिवराज

हर साल पांच विद्यार्थियों को दिया जाएगा 'नेताजी सुभाष चंद्र बोस पराक्रम पुरस्कार': मुख्यमंत्री शिवराज

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा के मंत्र को उद्घोष कर जिन्होंने भारत माता के पैरों से परतंत्रता की बेड़ियों को काटने के लिए देश में नहीं, विदेश में जाकर आजाद हिंद फौज का गठन किया और जिनके पराक्रम के कारण अंग्रेज विवश हुए भारत छोड़ने के लिए ऐसे नेताजी सुभाष चंद्र बोस के चरणों में हम प्रणाम करते हैं।

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि दी। इस दौरान उन्होंने मध्य प्रदेश के विद्यार्थियों के लिए 'नेताजी सुभाष चंद्र पराक्रम पुरस्कार' की भी बात की। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश सरकार समाज और प्रदेश की सेवा के लिए उत्कृष्ट कार्य करने वाले पांच विद्यार्थियों को 'नेताजी सुभाष चंद्र बोस पराक्रम पुरस्कार' से सम्मानित करेगी।  

इसे भी पढ़ें: नेताजी के नाम पर बंगाल में सियासी संग्राम, पीएम मोदी का 'पराक्रम' बनाम दीदी का 'देशनायक' 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खुद वीडियो ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा के मंत्र को उद्घोष कर जिन्होंने भारत माता के पैरों से परतंत्रता की बेड़ियों को काटने के लिए देश में नहीं, विदेश में जाकर आजाद हिंद फौज का गठन किया और जिनके पराक्रम के कारण अंग्रेज विवश हुए भारत छोड़ने के लिए ऐसे नेताजी सुभाष चंद्र बोस के चरणों में हम प्रणाम करते हैं। माननीय प्रधानमंत्री जी ने भारत सरकार ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को पराक्रम दिवस मनाने का फैसला किया। मध्य प्रदेश सरकार भी ऐसे विद्यार्थी जो समाज और प्रदेश की सेवा के लिए उत्कृष्ट कार्य करेंगे, ऐसे पांच विद्यार्थियों को नेताजी सुभाष चंद्र बोस पराक्रम पुरस्कार से सम्मानित करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस के नेता का बयान, कहा- भाजपा को नेताजी की जयंती मनाने का अधिकार नहीं है 

जबलपुर जा रहे हैं शिवराज

मुख्यमंत्री शिवराज आज जबलपुर जा रहे हैं। जहां पर वह उस जेल का दौरा करेंगे जिसमें नेताजी को रखा गया था। शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि आज मैं जबलपुर भी जा रहा हूं, त्रिपुरी में कांग्रेस का अधिवेशन हुआ था। जहां नेताजी को कांग्रेस का अध्यक्ष चुना गया था। बाद में उन्हें जबलपुर जेल में ही रखा गया था और बाद में उन्होंने कांग्रेस छोड़ दिया था। लेकिन मैं उस जेल में जाकर नेताजी के चरणों में श्रद्धा-सुमन अर्पित करूंगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।