• हिमाचल हादसे में 9 शव बरामद, सात लोग अभी भी लापता

राज्य आपदा प्रबंधन निदेशक सुदेश कुमार मोखटा ने बताया कि लाहौल-स्पीति में उदयपुर में तोजिंग नाले पर बादल फटने से आई बाढ़ में सात लोगों की मौत हो गई।

शिमला। हिमाचल प्रदेश में मूसलाधार बारिश के कारण अचानक आई बाढ़ में कम से कम नौ लोगों के मारे जाने के साथ सात लोगों के लापता होने की सूचना है। अब तक हादसों में मरने वालों के सात शव बरामद किये जा चुके हैं जबकि दो की पहचान नहीं हो पा रही है। बादल फटने से पूरे इलाके में अफरातफरी का माहौल है। 

इसे भी पढ़ें: हिमाचल विधानसभा का मानसून सत्र दो अगस्त से, 10 दिन तक चलेगा सदन 

राज्य आपदा प्रबंधन निदेशक सुदेश कुमार मोखटा ने बताया कि लाहौल-स्पीति में उदयपुर में तोजिंग नाले पर बादल फटने से आई बाढ़ में सात लोगों की मौत हो गई। उन्होंने बताया कि चम्बा जिले में दो लोगों की मौत हुई है। वहीं कुल्लू जिले में पनबिजली परियोजना के एक अधिकारी और दिल्ली के एक पर्यटक समेत चार लोग लापता हैं और उनके मारे जाने की आशंका है।

मोखटा ने कहा कि लाहौल-स्पीति के उदयपुर में अचानक आई बाढ़ में 12 मजदूर बह गए। सात शव बरामद किए गए, दो को बचा लिया गया जबकि तीन अभी भी लापता हैं। मरने वालों में चार हिमाचल प्रदेश के मंडी के हैं जबकि एक जम्मू-कश्मीर के रियासी का है। दो शवों की अभी शिनाख्त नहीं हो पाई है। मृतकों की पहचान मंडी के रहने वाले शेर सिंह (62), मेहर चंद (50), नीरथ राम (42) और रूम सिंह (41) के रूप में हुई है जबकि एक अन्य की पहचान जम्मू-कश्मीर के रियासी के रहने वाले मोहम्मद स्लेम के तौर पर हुई है। 

इसे भी पढ़ें: हिमाचल प्रदेश: किन्नौर हादसे के नौ मृतकों के शव परिजनों को सौंपे गए, 80 पर्यटक अभी भी फंसे 

चम्बा में ‘अर्थ मूविंग मशीन’ पर सवार सलूनी के निक्कू अचानक बाढ़ में बह गए। जिले के सुनील कुमार की अचानक चट्टान से गिरने से मौत हो गई। मोखटा ने कहा कि कुल्लू में 26 वर्षीय पूनम और उसका चार साल का बेटा निकुंज बुधवार की सुबह करीब 6.15 बजे मणिकरण के पास पार्वती की सहायक नदी ब्रह्मगंगा में पानी का स्तर अचानक बढ़ने से बह गये। उन्होंने कहा कि एक अन्य महिला, दिल्ली की एक पर्यटक, दीनीता और जलविद्युत परियोजना अधिकारी विजेंदर भी अचानक आई बाढ़ में बह गए।

उन्होंने कहा कि लाहौल-स्पीति में, कई सड़कें अवरुद्ध हो गई हैं और कई भूस्खलन के कारण लगभग 60 वाहन फंसे हुए हैं। भूस्खलन के कारण राज्य के कई हिस्सों में कई सड़कें अवरुद्ध हो गई हैं। उन्होंने कहा कि शिमला शहर के विकास नगर में भूस्खलन में एक कार क्षतिग्रस्त हो गई। इस बीच, राज्य के कुछ हिस्सों में भारी बारिश का दौर जारी है। शिमला मौसम विज्ञान केंद्र ने ‘रेड अलर्ट’ की चेतावनी जारी की है।