मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के 946 नए मामले, 18 मरीजों की मौत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 28, 2020   09:32
मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के 946 नए मामले, 18 मरीजों की मौत

उन्होंने कहा कि प्रदेश में कुल 2,38,352 संक्रमितों में से अब तक 2,24,692 मरीज संक्रमण मुक्त होकर घर चले गये हैं और 10,097 मरीज़ों का इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है। उन्होंने कहा कि रविवार को 1,160 रोगियों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।

भोपाल। मध्यप्रदेश में रविवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 946 नए मामले सामने आए और इसके साथ ही प्रदेश में इस वायरस से अब तक संक्रमित पाये गये लोगों की कुल संख्या 2,38,352 तक पहुंच गयी। राज्य में पिछले 24 घंटों में इस बीमारी से 18 और व्यक्तियों की मौत की पुष्टि हुई है जिससे मरने वालों की संख्या 3,563 हो गयी है। मध्यप्रदेश के स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण से इंदौर, भोपाल, रायसेन एवं ग्वालियर में दो-दो और जबलपुर, खरगोन, रतलाम, धार, बैतूल, बड़वानी, छिंदवाड़ा, हरदा, गुना एवं अशोकनगर में एक-एक मरीज की मौत की पुष्टि हुई है।’’

उन्होंने बताया, ‘‘राज्य में अब तक कोरोना वायरस से सबसे अधिक 859 मौत इंदौर में हुई हैं, जबकि भोपाल में 569, उज्जैन में 101, सागर में 147, जबलपुर में 239 एवं ग्वालियर में 197 लोगों की मौत हुई हैं। बाकी मौतें अन्य जिलों में हुई हैं।’’ अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में रविवार को कोविड-19 के 286 नये मामले इंदौर जिले में आये, जबकि भोपाल में 194 नये मामले आये। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कुल 2,38,352 संक्रमितों में से अब तक 2,24,692 मरीज संक्रमण मुक्त होकर घर चले गये हैं और 10,097 मरीज़ों का इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है। उन्होंने कहा कि रविवार को 1,160 रोगियों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।