पहले से शादी-शुदा होने के बावजूद शख्स ने की दूसरी शादी, 8 माह की गर्भवती होने के बाद घर से भगाया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 13, 2021   11:26
पहले से शादी-शुदा होने के बावजूद शख्स ने की दूसरी शादी, 8 माह की गर्भवती होने के बाद घर से भगाया

नोएडा में पहले से शादी शुदा होने के बावजूद दूसरी शादी करने के आरोप में एक शख्स के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।पीड़िता का आरोप है कि 13 जून 2021 को अर्नव ने उससे शादी की। इसके बाद पता चला कि वह पहले से शादी शुदा है। पांच सितंबर 2018 को उसकी शादी हो चुकी है।

नोएडा। थाना बिसरख में एक महिला ने एक व्यक्ति के खिलाफ पहले से शादी-शुदा होने के बावजूद उससे धोखे से शादी करने का मामला दर्ज कराया है। बिसरख थाना की प्रभारी निरीक्षक अनीता चौहान ने बताया कि पीड़िता का आरोप है कि उसने वैवाहिक साइट पर एक पोस्ट देखा था जिसमें आरोपी अर्नव ने ऑस्ट्रेलिया में काम करने और अविवाहित होने की जानकारी दी थी। पहचान के बाद पीड़िता उसके साथ लिव इन रिलेशन में रहने लगी और गर्भवती हो गयी। अर्नव के परिजन को भी इसकी जानकारी थी। उन्होंने बताया कि पीड़िता का आरोप है कि शादी की तारीख तय होने के बाद पीड़िता अपने घर मध्य प्रदेश चली गई, लेकिन अर्नव और उसके परिजन विवाह के लिए वहां नहीं पहुंचे। आठ माह की गर्भवती होने के बाद जब वह अर्नव के घर पहुंची तो उसे भगा दिया गया।

इसे भी पढ़ें: आयुष्मान भारत रोजगार योजना के नाम पर UP में 3423 युवाओं से ठगी

पीड़िता का आरोप है कि 13 जून 2021 को अर्नव ने उससे शादी की। इसके बाद पता चला कि वह पहले से शादी शुदा है। पांच सितंबर 2018 को उसकी शादी हो चुकी है। थाना प्रभारी ने बताया कि मध्य प्रदेश में बच्चे को जन्म देने के बाद 18 सितंबर को पीड़िता बच्चे को लेकर ग्रेटर नोएडा पश्चिम स्थित अपने पति के घर पहुंची तो ससुराल वालों ने प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। दो महीने के बच्चे को छोड़कर उसपर नौकरी का दबाव बनाने लगे। पीड़िता ने बच्चे की जान को खतरा बताते हुए पति और ससुराल पक्ष के अन्य लोगों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न सहित विभिन्न धाराओं में नामजद मुकदमा दर्ज कराया है। चौहान ने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।