केजरीवाल ने मोहाली में विरोध कर रहे अध्यापकों का किया समर्थन, बोले- सरकार बनने पर आपकी समस्या हल करूंगा

केजरीवाल ने मोहाली में विरोध कर रहे अध्यापकों का किया समर्थन, बोले- सरकार बनने पर आपकी समस्या हल करूंगा

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आप लोगों ने सुना होगा दिल्ली के भीतर शिक्षा व्यवस्था अच्छी हो गई है। दिल्ली के अंदर सरकारी और गैर सरकारी स्कूल जो अच्छे हो गए हैं उसे केजरीवाल या मनीष सिसोदिया ने नहीं किया है बल्कि अध्यापकों ने किया है। यह बात हम आपको खुश करने के लिए नहीं कह रहे हैं।

चंडीगढ़। आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को मोहाली में पंजाब राज्य शिक्षा विभाग के बाहर प्रदर्शन कर रहे राज्य के अध्यापकों से मुलाकात की। इस दौरान मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि हमने दिल्ली में अध्यापकों के सारे मसले हल किए हैं। अब पंजाब में भी करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: किसानों की MSP की मांग जायज, CM केजरीवाल बोले- टेनी साहब को मंत्रिमंडल से किया जाना चाहिए बर्खास्त

दिल्ली के सरकारी स्कूलों में पढ़ते हैं 16 लाख बच्चे

उन्होंने कहा कि आप लोगों ने सुना होगा दिल्ली के भीतर शिक्षा व्यवस्था अच्छी हो गई है। दिल्ली के अंदर सरकारी और गैर सरकारी स्कूल जो अच्छे हो गए हैं उसे केजरीवाल या मनीष सिसोदिया ने नहीं किया है बल्कि अध्यापकों ने किया है। यह बात हम आपको खुश करने के लिए नहीं कह रहे हैं। मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के सरकारी स्कूलों में 16 लाख बच्चे पढ़ते हैं और पंजाब के सरकारी स्कूलों में 24 लाख बच्चे पढ़ते हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार बनने से पहले 16 लाख बच्चों का भविष्य अंधकार में था। स्कूलों में कोई पढ़ाई नहीं होती थी लेकिन हमारी सरकार आने के बाद हमने अध्यापकों को नहीं निकला बल्कि माहौल बदल दिया।  

इसे भी पढ़ें: पंजाब में जो उत्कृष्ट शिक्षा प्रणाली चाहते हैं, वे आप के पक्ष में मतदान करें: केजरीवाल 

सरकार बनने पर हल करूंगा अध्यापकों के मुद्दे

उन्होंने कहा कि पहले काम करने वाले अध्यापकों ने कमाल करके दिखा दिया। अध्यापकों के मसले हमने ठीक किए और उन्होंने मेरे बच्चों की पढ़ाई ठीक कर दी। मैं आज सिर्फ इतना वादा करके जा रहा हूं कि हमारी सरकार आएगी तो आपके मसले जरूर हल करेंगे और मैं दिल्ली में करके आया हूं, यहां भी करूंगा। उन्होंने कहा कि मैं यहां इन अध्यापकों का समर्थन करने के लिए आया हूं। अध्यापक 6,000 रुपए की तनख्वाह पर काम कर रहे हैं। 6,000 रुपए की सैलरी लेकर किसका गुजारा चल सकता है। पंजाब सरकार इनकी मांगों पर विचार करें।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...