किसानों की MSP की मांग जायज, CM केजरीवाल बोले- टेनी साहब को मंत्रिमंडल से किया जाना चाहिए बर्खास्त

किसानों की MSP की मांग जायज, CM केजरीवाल बोले- टेनी साहब को मंत्रिमंडल से किया जाना चाहिए बर्खास्त

दिल्ली विधानसभा में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि किसानों की लड़ाई आजादी की लड़ाई से कम नहीं थी। यह किसानों की जीत नहीं है बल्कि यह जनतंत्र की जीत है। देश के भीतर पिछले कुछ सालों से लोकतंत्र से जो भरोसा उठ रहा था लेकिन किसान आंदोलन से लोगों के भीतर भरोसा बढ़ा है।

नयी दिल्ली। दिल्ली विधानसभा में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने किसान आंदोलन का जिक्र किया। इस दौरान उन्होंने शहीद हुए 700 किसानों को नमन किया। उन्होंने कहा कि अपने देश के किसान देशद्रोही हैं क्या ? अगर यह लोग देशद्रोही हैं तो गालियां देने वाले क्या हैं ? किसानों को खालिस्तानी कहा गया, चीन का एजेंट कहा गया फिर भी यह लोग शांति के साथ बैठे रहे। इतना ही नहीं सरकार किसानों की हिम्मत नहीं तोड़ पाई और अंत में उन्हें किसानों के सामने झुकना पड़ा। 

इसे भी पढ़ें: किसानों के आंदोलन के एक साल, दिल्ली की सीमाओं पर सुरक्षा बढ़ायी गई 

आजादी की लड़ाई जैसी थी किसानों की लड़ाई

मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों की लड़ाई आजादी की लड़ाई से कम नहीं थी। यह किसानों की जीत नहीं है बल्कि यह जनतंत्र की जीत है। देश के भीतर पिछले कुछ सालों से लोकतंत्र से जो भरोसा उठ रहा था लेकिन किसान आंदोलन से लोगों के भीतर भरोसा बढ़ा है। उन्होंने कहा कि मेरे देश के किसान ने अपने सत्याग्रह से ये दिखा दिया कि अन्याय के ख़िलाफ़ सच्चाई और मज़बूत इरादों की जीत ज़रूर होती है। इसी बीच भाजपा पर निशाना साधते हुए मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि जब तीनों कृषि कानून आए तो भाजपा वालों ने इसे मास्टरस्ट्रोक बताया था और जब वापस लिया गया तब भी मास्टरस्ट्रोक बताया। आपके नेताओं ने आपकी क्या गत बना दी। 

इसे भी पढ़ें: मोदी सरकार को बदलनी चाहिए अपनी कार्यशैली, विपक्ष की बात सुनी होती तो 700 किसान शहीद नहीं होते: आनंद शर्मा

किसानों के साथ है दिल्ली सरकार

उन्होंने कहा कि हम किसानों की मांगों का समर्थन करते हैं। टेनी साहब को तुरंत केंद्रीय मंत्री पद से बर्खास्त करना चाहिए। केंद्र सरकार की कुछ तो मजबूरी होगी तभी उनका बोझ अपने कंधे पर ढो रही है। उन्होंने कहा कि किसानों की न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) वाली मांग जायज है। इसके ऊपर हमने भी बहुत अध्ययन किया है। राजनीतिक तौर पर नहीं लेकिन अगर यह लागू हो जाता है तो कृषि क्षेत्र को बहुत फायदा हो सकता है। इसके अलावा किसानों पर लगाए गए सभी केस वापस होने चाहिए। हम किसानों के साथ है।

यहां पर सुने पूरा संबोधन:-  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।