पंजाब में अरविंद केजरीवाल की 'बड़ी घोषणा', विधानसभा चुनाव के मद्देनजर जनता से किए ये वादे

पंजाब में अरविंद केजरीवाल की 'बड़ी घोषणा', विधानसभा चुनाव के मद्देनजर जनता से किए ये वादे

आप के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल लुधियाना में हैं। उन्होंने पंजाब की जनता के साथ अपने संबोधन में कांग्रेस पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा पंजाब ने बड़ी उम्मीदों के साथ कांग्रेस की सरकार बनाई थी। लेकिन आज उन्होंने सरकार का मजाक उड़ाया है।

चंडीगढ़। आप के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल लुधियाना में हैं। उन्होंने पंजाब की जनता के साथ अपने संबोधन में कांग्रेस पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा पंजाब ने बड़ी उम्मीदों के साथ कांग्रेस की सरकार बनाई थी। लेकिन आज उन्होंने सरकार का मजाक उड़ाया है। सत्ता के लिए गंदी लड़ाई चल रही है। उनके सभी नेता सीएम बनना चाहते हैं। इतनी अंदरूनी कलह है कि सरकार गायब हो गई है। दिल्ली CM अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अगर पंजाब में हमारी सरकार बनी तो हम 300 यूनिट बिजली मुफ्त करेंगे, हमनें ये दिल्ली में करके दिखाया है। हम 24 घंटे बिजली देंगे, दिल्ली में करके दिखाया है।

इसे भी पढ़ें: अजय देवगन को बीच सड़क पर जब गुंडों ने घेर लिया था, पिता वीरु देवगन ने बुला लिए थे 200 फाइटर्स

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, जो पंजाब की दो दिवसीय यात्रा पर हैं, से 2022 के विधानसभा चुनावों के मद्देनजर "बड़ी घोषणाएँ" करने की उम्मीद है, जिसे आम आदमी पार्टी (आप) एक बड़े अवसर के रूप में देख रही है। आम आदमी पार्टी भी पंजाब में मौजूदा कांग्रेस सरकार के आने वाले संकट को भुनाने की कोशिश कर रही है। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा आप का मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार 'पंजाब का गौरव' होगा। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, "हमने बार-बार कहा है कि हम आपको ऐसा सीएम चेहरा देंगे कि आप सभी को गर्व होगा, पंजाब को गर्व होगा।" केजरीवाल ने बुधवार को लुधियाना में आप नेताओं जरनैल सिंह, भगवंत मान, राघव चड्ढा और हरपाल सिंह चीमा के साथ उद्योगपतियों से मुलाकात की। आप के पंजाब सह प्रभारी राघव चड्ढा ने इस सप्ताह की शुरुआत में कहा था कि केजरीवाल राज्य के अपने दौरे के दौरान 'बड़ी घोषणाएं' करेंगे। जब आप अगले साल पंजाब में चुनावी मैदान में उतरेगी तो भगवंत मान शीर्ष पद के लिए सबसे आगे चल रहे हैं।

आम आदमी पार्टी (आप) के नेता अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को कहा कि पंजाब सरकार को ‘तमाशा’ बना दिया गया है और उन्होंने नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी से अपने मंत्रिमंडल से ‘दागी’ मंत्रियों को तुरंत हटाने का आग्रह किया। नवजोत सिंह सिद्धू के कांग्रेस की पंजाब इकाई के अध्यक्ष पद से इस्तीफे के एक दिन बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने चंडीगढ़ हवाई अड्डे पर यह बात कही। सिद्धू ने बुधवार को एक वीडियो संदेश में ‘‘दागी’’ अधिकारियों और मंत्रियों की नियुक्ति के मुद्दे को उठाया था। केजरीवाल ने पंजाब के मुख्यमंत्री से बरगाड़ी के बेअदबी मामले में कार्रवाई सहित उनके पूर्ववर्ती द्वारा किए गए वादों पर कदम उठाने को कहा। राज्य में शिरोमणि अकाली दल (शिअद) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की पिछली सरकार के दौरान फरीदकोट के बरगाड़ी में एक धार्मिंक ग्रंथ के पृष्ठ फटे हुए मिले थे। बाद में पुलिस गोलीबारी की घटनाओं में बहबल कलां में दो लोगों की मौत हो गई थी और कोटकपुरा में कई लोग घायल हो गए थे। पंजाब के दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे केजरीवाल ने कहा, ‘‘हम देख रहे हैं कि राज्य में किस तरह का राजनीतिक माहौल है। राजनीतिक अस्थिरता है, जो दुर्भाग्यपूर्ण है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘सत्ता के लिए गंदी लड़ाई चल रही है। लोग यह नहीं समझ पा रहे हैं कि वे अपनी समस्याओं के लिए किससे संपर्क करें।’’ केजरीवाल ने आरोप लगाया, ‘‘उन्होंने सरकार को ‘तमाशा’ बना दिया है।’’ उन्होंने कहा कि आरोप लगाए गए हैं कि चन्नी ने अपने मंत्रिमंडल में ‘‘दागी’’ लोगों को शामिल किया है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं अनुरोध करता हूं कि उन्हें तत्काल हटाया जाए, उनके खिलाफ मामले दर्ज किए जाएं और उनसे सख्ती से निपटा जाए।’’

केजरीवाल ने चन्नी को पंजाब का मुख्यमंत्री बनने पर बधाई देते हुए कहा कि राज्य के लोग चाहते हैं कि वह बरगाड़ी बेअदबी मामले सहित पांच मुद्दों पर कार्रवाई करें। उन्होंने कहा, ‘‘बेअदबी की घटनाओं के षडयंत्रकर्ता को अब तक दंडित नहीं किया गया है। मुझे यह बताने की आवश्यकता नहीं है कि षडयंत्रकर्ता कौन हैं। उनके नाम कुंवर विजय प्रताप सिंह की रिपोर्ट में हैं और चन्नी इस रिपोर्ट को देख सकते हैं। दोषियों को 24 घंटे के भीतर गिरफ्तार किया जा सकता है।’’ केजरीवाल ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह द्वारा पंजाब के लोगों से किए गए वादों को चन्नी के नेतृत्व वाली सरकार को पूरा करना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘अमरिंदर ने युवाओं को नौकरी देने का वादा किया था और अब तक उन्हें नौकरी नहीं मिली, उन्होंने बेरोजगारी भत्ता देने का वादा किया था। वह भत्ता दिया जाना चाहिए। उन्होंने किसानों का कर्ज माफ करने का वादा किया था।’’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार को बिजली खरीद समझौतों को रद्द करना चाहिए। उन्होंने चन्नी को याद दिलाया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री के रूप में अपने पहले कार्यकाल के दौरान वह 49 दिनों तक सत्ता में रहे थे और इसके बावजूद, उनकी सरकार ने कई काम किए थे और पंजाब के मुख्यमंत्री के पास तो अभी भी चार महीने बचे हैं। आप नेता ने कहा कि केवल उनकी पार्टी ही पंजाब में एक स्थिर और ईमानदार सरकार दे सकती है। उन्होंने कहा, ‘‘चुनाव में चार महीने बाकी हैं और चुनाव के बाद आप, एक ईमानदार और स्थिर सरकार देगी।’’ केजरीवाल के साथ राज्य इकाई के प्रमुख भगवंत मान और पार्टी के वरिष्ठ नेता राघव चड्ढा भी मौजूद थे। यह पूछे जाने पर कि आप का मुख्यमंत्री पद का चेहरा कौन होगा, केजरीवाल ने कहा, मैंने बार-बार कहा है कि हम एक ऐसा चेहरा देंगे जिस पर आपको और पूरे पंजाब को गर्व होगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।