अभिनंदन ने मार गिराया था पाक का F-16, वो मिग-21 होंगे रिटायर

Abhinandan
Creative Common
अभिनय आकाश । Sep 20, 2022 2:16PM
श्रीनगर की नं 51 स्क्वाड्रन स्वोर्ड आर्म्स के नाम से जानी जाती है। विंग कमांडर अभिनंदन भी इस स्क्वाड्रन का हिस्सा थे। बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तानी एफ-16 से डॉगफाइट में इसी स्क्वाड्रन के मिग 21 लड़ाकू विमान शामिल हुए थे।

हरेक भारतवाशी को वो तारीख जरूर याद होगी जब आज से तीन साल पहले फरवरी के महीने में बालाकोट स्ट्राइक का बदला लेने भारत के वायुसीमा में घुसे पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों को हमारे वायुयोद्धाओं ने खदेड़ दिया। इसी दौरान विंग कमांडर अभिनंदन ने पुरानी तकनीक वाले मिग 21 से पाकिस्तान के एफ-16 को मार गिराया। लेकिन पाकिस्तान के एफ 16 फाइटर जेट को मार गिराने वाला विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान का स्क्वॉड्रन खत्म होने जा रहा है। मिग 21 फाइटर जेट का एक स्क्वाड्रन 30 सितंबर को रिटायर होने जा रहा है। 

इसे भी पढ़ें: दशहरा रैली पर रार के बीच एकनाथ शिंदे के खाते में गया BKC मैदान, अधर में लटकी उद्धव गुट की रैली

 श्रीनगर की नं 51 स्क्वाड्रन स्वोर्ड आर्म्स के नाम से जानी जाती है। विंग कमांडर अभिनंदन भी इस स्क्वाड्रन का हिस्सा थे। बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तानी एफ-16 से डॉगफाइट में इसी स्क्वाड्रन के मिग 21 लड़ाकू विमान शामिल हुए थे। विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान ने मिग 21 से पाकिस्तानी एफ-16 को मार गिराया था। भारतीय वायुसेना में इस वक्त  मिग 21 के चार स्क्वाड्रन हैं। श्रीनगर स्थित 51 स्क्वाड्रन को स्वॉर्ड आर्म्स के नाम से भी जाना जाता है। इस बेडे़ ने 1999 में कारगिल युद्ध में भी हिस्सा लिया था। भारत रक्षक बेवसाइट के अनुसार इस स्क्वाड्रन को वायुसेना मेडल से भी नवाजा जा चुका है। ऑपरेशन पराक्रम के दौरान इस स्क्वाड्रन को कश्मीर घाटी के एयर डिफेंस का जिम्मा सौंपा गया था। 

इसे भी पढ़ें: अदालत ने संजय राउत की न्यायिक हिरासत बढ़ाई, ईडी के पूरक आरोपपत्र पर संज्ञान लिया

कहा जाता है उड़ता ताबूत 

मिग 21 को 1964 में भारतीय सेना में शामिल किया गया था। इसे सोवियत संघ द्वारा निर्मित किया गया था। लेकिन मिग 21 के क्रैश होने पर इसकी सुरक्षा को लेकर सवाल उठते रहे हैं।  पिछले कुछ सालों में कई मिग 21 हादसों का शिकार हुए हैं। इस विमान से पिछले 62 साल में 200 हादसे हुए हैं। किसी जमाने में फाइटर जेट मिग 21 विमान भारतीय वायुसेना की रीढ़ माने जाते थे। लेकिन अब ये विमान न तो जंग के लिए तैयार है और न उड़ान के लिए फिट है। मिग 21 को फ्लाइिंग कॉफिन यानी उड़ता ताबूत भी कहते हैं।  

अन्य न्यूज़