जहरीली शराब से 4 मौतों के बाद पुलिस ने की कार्यवाही,10 पेटी अवैध शराब की जब्त, तोड़ी शराब की भट्टी

जहरीली शराब से 4 मौतों के बाद पुलिस ने की कार्यवाही,10 पेटी अवैध शराब की जब्त, तोड़ी शराब की भट्टी

भिंड जिले में जहरीली शराब से मौत का सिलसिला जारी है। इंदुर्खी गांव में बीते चार दिनों में 4 लोगों की बलि चढ़ चुकी है। वहीं 6 लोगों का ग्वालियर में भी इलाज चल रहा है। जिसमे से एक की हालात गंभीर है।

भोपाल। मध्य प्रदेश के भिंड जिले में इंदुर्खी गांव में जहरीली शराब पीने से 4 संदिग्ध मौतों के बाद पुलिस और जिला प्रशासन सख्त हो गया है। देर रात एसआईटी की टीम ने इन्दुर्खी गांव में दबिश देकर 10 पेटी अवैध शराब जब्त की है। एएसपी और लहार एसडीओपी ने अवैध शराब के साथ भिल्ले बाथम नामक आरोपी को गिरफ्तार किया है। 

दरअसल भिंड जिले में जहरीली शराब से मौत का सिलसिला जारी है। इंदुर्खी गांव में बीते चार दिनों में 4 लोगों की बलि चढ़ चुकी है। वहीं 6 लोगों का ग्वालियर में भी इलाज चल रहा है। जिसमे से एक की हालात गंभीर है। अब तक गांव वाले इस बारे में जानकारी छिपा रहे थे और साथ ही साथ पुलिस भी जहरीली शराब के संबंध को नकारती आ रही है।

इसे भी पढ़ें:"यह घर बिकाऊ है", हम मुस्लिम समाज और प्रशासन से पीड़ित हैं, जानिए क्या है पूरा मामला 

जिसके बाद अवैध शराब बनाने के खिलाफ ग्वालियर में आबकारी विभाग ने बड़ी कार्रवाही की है। विभाग ने कंजरों के डेरो में तैयार हो रही अवैध शराब भट्टी को नष्ट कर दिया।आबकारी के सहायक आयुक्त संदीप शर्मा के निर्देश पर नयागांव स्तिथ कंजरो के डेरों पर दबिश दी। वहां 2 भट्टियों पर लगभग 23000 लीटर गुड़ लाहन चढ़ा था। वहीं 45 बल्क लीटर हाथ भट्टी मदिरा बरामद हुई।

आपको बता दें कि आबकारी विभाग ने गुड़ लाहन का मौके पर ही सेम्पल लेकर उसे नष्ट कर दिया। कार्रवाही को अंजाम देने में कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह, उपायुक्त आबकारी संभाग ग्वालियर नरेश कुमार चौबे के निर्देशन में आबकारी उपनिरीक्षक रविशंकर यादव,आबकारी मुख्य आरक्षक नरेश चौहान, खेमराज मोदी, आबकारी आरक्षक संजय भदौरिया, सुनील सिंह, पंकज शर्मा, रामप्रकाश साक्यवार और अनुबंधित वाहन चालकों की महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।