बेटे की मौत के बाद, मां ने बदहवास में शव के साथ दौड़ती ट्रेन से लगा दी छलांग

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 23, 2019   11:38
बेटे की मौत के बाद, मां ने बदहवास में शव के साथ दौड़ती ट्रेन से लगा दी छलांग

उसने अपने बेटे रूपेंद्र (6) के शव के साथ ट्रेन के सामने छलांग लगायी थी। उप निरीक्षक ने बताया कि भारती अपने पति विश्वनाथ से यह कहकर घर से निकली थी कि बेटे की तबीयत ज्यादा खराब होने पर वह उसे शासकीय चाचा नेहरू बाल चिकित्सालय ले जा रही है।

इंदौर। दर्दनाक वाकये में शुक्रवार को यहां अपने छह वर्षीय बेटे की मौत के कारण बदहवास महिला दौड़ती ट्रेन के सामने संतान के शव के साथ कूद गयी। ट्रेन से कटने के कारण महिला की मौत हो गयी। राजेंद्र नगर पुलिस थाने के उप निरीक्षक ने बताया कि नालंदा परिसर के पास की रेलवे पटरी पर दौड़ती ट्रेन के सामने कूदने वाली महिला के शव की पहचान भारती पटेल (30) के रूप में हुई है।

इसे भी पढ़ें: रायपुर में मालवाहक वाहन पलटा, 25 से ज्यादा लोग घायल, कई की हालत बेहद गंभीर

उसने अपने बेटे रूपेंद्र (6) के शव के साथ ट्रेन के सामने छलांग लगायी थी। उप निरीक्षक ने बताया कि भारती अपने पति विश्वनाथ से यह कहकर घर से निकली थी कि बेटे की तबीयत ज्यादा खराब होने पर वह उसे शासकीय चाचा नेहरू बाल चिकित्सालय ले जा रही है।

इसे भी पढ़ें: बिहार में बड़ा रेल हादसा- सीमांचल एक्सप्रेस के 11 डिब्बे पटरी से उतरे, 7 लोगों की मौत

महिला का पति एक तेल मिल में काम करता है। इस बीच, शासकीय चाचा नेहरू बाल चिकित्सालय के अधीक्षक डॉ. हेमंत जैन ने बताया, "भारती जब अपने बेटे को लेकर हमारे अस्पताल आयी, तब बच्चे की मौत हो चुकी थी। डॉक्टरों ने जांच के बाद उसे औपचारिक रूप से मृत घोषित कर दिया था।" जैन ने बताया कि छह वर्षीय बालक सिकल सेल एनीमिया का मरीज था। इस बीच, पुलिस ने महिला और उसके बेटे के शव को पोस्टमॉर्टम के लिये जिला अस्पताल पहुंचाया। मामले की विस्तृत जांच की जा रही है। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।