चक्रवाती तूफ़ान निवार को लेकर गृह मंत्री शाह ने तमिलनाडु व पुडुचेरी के मुख्यमंत्रियों को हर मदद का दिया आश्वासन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2020   13:31
चक्रवाती तूफ़ान निवार को लेकर गृह मंत्री शाह ने तमिलनाडु व पुडुचेरी के मुख्यमंत्रियों को हर मदद का दिया आश्वासन

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने कहा कि निवार चक्रवात बृहस्पतिवार तड़के पुडुचेरी तट से टकराया। इसके बाद केंद्र शासित प्रदेश और पड़ोसी तमिलनाडु में भारी बारिश होना शुरू हो गई।

नयी दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बृहस्पतिवार को तमिलनाडु और पुडुचेरी के मुख्यमंत्रियों से बात की और निवार चक्रवात के मद्देनजर उन्हें केंद्र की ओर से हरसंभव मदद देने का आश्वासन दिया। शाह ने कहा कि चक्रवात के तट से टकराने के बाद केंद्र सरकार तमिलनाडु और पुडुचेरी में स्थिति पर करीब से निगाह रख रही है और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के कर्मी जरूरतमंदों की मदद के लिए वहां मौजूद हैं। गृह मंत्री ने ट्वीट किया, चक्रवात निवार के मुद्देनजर हम तमिलनाडु और पुडुचेरी में स्थिति पर करीब से निगाह रख रहे हैं। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री श्री के पलानीस्वामी और (पुडुचेरी के मुख्यमंत्री) श्री वी नारायणसामी से बात की और केंद्र की तरफ से उन्हें हरसंभव मदद का आश्वासन दिया। एनडीआरएफ की टीमें जरूरतमंदों की मदद के लिए पहले से ही वहां पर हैं। 

इसे भी पढ़ें: चक्रवात निवार तमिलनाडु, पुडुचेरी के तटीय क्षेत्रों की ओर बढ़ा, J&K और हिमाचल में बर्फबारी

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने कहा कि निवार चक्रवात बृहस्पतिवार तड़के पुडुचेरी तट से टकराया। इसके बाद केंद्र शासित प्रदेश और पड़ोसी तमिलनाडु में भारी बारिश होना शुरू हो गई। निवार के तट से गुजरने के बाद यह कमजोर होकर गंभीर चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया। तमिलनाडु से अब तक चक्रवात की वजह से जान हानि की कोई खबर नहीं है लेकिन चक्रवात की वजह से पेड़ उखड़ गए और कुछ इलाकों में दीवारें ढहने की भी खबरें हैं। पुडुचेरी में भारी बारिश हुई और पेड़ उखड़ गए, बिजले के खंभे क्षतिग्रस्त हो गए तथा कई इलाके पानी में डूब गए। केंद्र शासित प्रदेश से अब तक किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।