यमुना प्राधिकरण के आवेदकों को करना होगा आचार संहिता समाप्त होने का इंतजार, उसके बाद ही हो सकेगा योजनाओं का ड्रा संपन्न

Yamuna Authority
वहीं प्राधिकरण को औद्योगिक भूखंड योजना में भी ढाई हजार आवेदन प्राप्त हुए हैं। इसके साथ ही प्राधिकरण ने पहली बार क्योस्क के लिए भूखंड योजना निकाली थी। यह योजना भी पूरी तरह से सफल रही है। इसका आवंटन बोली के आधार पर किया जाएगा।

जिन लोगों ने यमुना प्राधिकरण की योजनाओं में आवेदन किया है उन्हें चुनाव प्रक्रिया पूरी होने का इंतजार करना होगा। चुनावी प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही योजनाओं का ड्रा संपन्न हो सकेगा और जो अभी तक असफल हुए हैं उनको पंजीकरण राशि वापस मिलने का रास्ता साफ होगा। यमुना प्राधिकरण की एससीओ मोनिका रानी ने बताया कि चुनावी आदर्श अचार संहिता लागू होने की वजह से ड्रा प्रक्रिया को 10 मार्च से पहले पूरा कराना संभव नहीं है।

लगभग 16000 आवेदन प्राधिकरण की आवासीय भूखंड योजना में मिले हैं। भूखंडों की संख्या के सापेक्ष एकमुश्त भुगतान का विकल्प देने वाले आवेदकों की संख्या बहुत ज्यादा है। इसलिए भूखंड के सभी श्रेणी के लिए ड्रॉ होना तय माना जा रहा है। पहली बार 4000 वर्ग मीटर श्रेणी में भी भूखंडों की संख्या के सापेक्ष एकमुश्त भुगतान का विकल्प देने वाले आवेदकों की संख्या बहुत ज्यादा है। भूखंड की कीमत लगभग साढ़े 7 करोड़ रुपए है। सफल आवेदक को प्राधिकरण को यह राशि आवंटन होने के 60 दिन में एक मुफ्त देनी होगी।

वहीं प्राधिकरण को औद्योगिक भूखंड योजना में भी ढाई हजार आवेदन प्राप्त हुए हैं। इसके साथ ही प्राधिकरण ने पहली बार क्योस्क के लिए भूखंड योजना निकाली थी। यह योजना भी पूरी तरह से सफल रही है। इसका आवंटन बोली के आधार पर किया जाएगा। इसके लिए भी बोली  आचार संहिता खत्म होने के बाद ही होगी।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़