रीवा में बनारस हाईवे को बम से उड़ाने की कोशिश, यूपी चुनाव से पहले फैलाई जा रही है दहशत

रीवा में बनारस हाईवे को बम से उड़ाने की कोशिश, यूपी चुनाव से पहले फैलाई जा रही है दहशत

मामला रीवा जिला मुख्यालय से 70 किलोमीटर दूर मऊगंज थाना पतेहरी ओवर ब्रिज के नीचे का है। नेशनल हाइवे- 137 रीवा-बनारस को जोड़ने वाली सड़क के नीचे ओवरब्रिज में बम होने की खबर से हड़कंप मच गया। हाइवे को बंद कर बम निरोधक दस्ते ने पड़ताल शुरू की।

भोपाल। मध्य प्रदेश के रीवा में शनिवार को बम मिलने से एक बार फिर से हड़कंप मच गया। बम निरोधक दस्ते ने विस्फोटक को अपने कब्जे में लेकर पड़ताल की। जांच में यह विस्फोटक नकली बम निकला। इसेस सिर्फ दहशत फैलाने के लिए लगाया गया था। रीवा में 15 दिन के अंदर चौथी बार नकली बम मिला है। 

दरअसल मामला रीवा जिला मुख्यालय से 70 किलोमीटर दूर मऊगंज थाना पतेहरी ओवर ब्रिज के नीचे का है। नेशनल हाइवे- 137 रीवा-बनारस को जोड़ने वाली सड़क के नीचे ओवरब्रिज में बम होने की खबर से हड़कंप मच गया। हाइवे को बंद कर बम निरोधक दस्ते ने पड़ताल शुरू की। इस बार पूर्व में मिले नकली बम से अलग तरह का था।

इसे भी पढ़ें:हिंदी में भी होगी एमबीबीएस की पढ़ाई, मंत्री सारंग ने दी जानकारी 

वहीं जांच में यह खाली डिब्बा पाया गया। बता दें कि रीवा उत्तरप्रदेश की सीमावर्ती जिला है। यहां मार्ग बनारस को जोड़ता है। यह से मिर्जापुर की दूरी महज 70 किलोमीटर है। यह जांच लगभग 3 घंटो तक चलती रही। 

आपको बता दें कि उत्तरप्रदेश में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। जिसके चलते सीमा से लगे प्रदेश के जिलों में ऐसी वारदातें की जा रही हैं। इस घटना के पहले भी 26 जनवरी के दिन कश्मीर से कन्याकुमारी जाने वाले हाईवे को उड़ाने के लिए एक पुल के नीचे बम मिला था। इसके साथ ही गणतंत्र दिवस पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के नाम का धमकी भरा पत्र भी बम के साथ पुल के नीचे चस्पा किया गया था। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...