हिंदी में भी होगी एमबीबीएस की पढ़ाई, मंत्री सारंग ने दी जानकारी

हिंदी में भी होगी एमबीबीएस की पढ़ाई, मंत्री सारंग ने दी जानकारी

मंत्री ने कहा दुनिया की स्टडी भी यह बताती है कि किसी भी तरह की पढ़ाई, लर्निंग या सीख यदि मातृभाषा में होती है तो उसके परिणाम और ज्यादा अच्छे और सुखद होते हैं। इसी कारण सिलेबस में बिना कोई भी बदलाव किए हिंदी में भी पाठ्यक्रम आ सके इसकी तैयारी कर चुके है।

भोपाल। मध्य प्रदेश में एमबीबीएस की पढ़ाई अब हिंदी में भी की जाएगी। अगले सत्र से इसे लागू करने पर विचार किया जा रहा है। सिलेबस को हिंदी में तैयार किया जा रहा है। जिसके लिए अटल बिहारी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय को शासन की तरफ से यह जिम्मेदारी दी गई है।

दरअसल मध्य प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग में इसकी जानकारी देते हुए कहा कि हिंदी हमारी राष्ट्रीय भाषा है। बहुत सारे स्तर से यह मांग उठ रही थी कि हिंदी में भी पाठ्यक्रम होना चाहिए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री का भी यही मंतव्य है कि एमबीबीएस की पढ़ाई अब हिंदी में भी हो।

इसे भी पढ़ें:सिंध नदी में पलटी नाव, लापता हुए दो बच्चें, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी 

मंत्री ने कहा दुनिया की स्टडी भी यह बताती है कि किसी भी तरह की पढ़ाई, लर्निंग या सीख यदि मातृभाषा में होती है तो उसके परिणाम और ज्यादा अच्छे और सुखद होते हैं। इसी कारण सिलेबस में बिना कोई भी बदलाव किए हिंदी में भी पाठ्यक्रम आ सके इसकी तैयारी कर चुके है। इसके लिए एक उच्चस्तरीय कमिटी भी बनाई गई है। 

मंत्री ने कहा कि कल यानी शुक्रवार को इसे लेकर मीटिंग भी की गई थी और यह निर्णय लिया गया कि पाठ्यक्रम के अनुवाद के साथ जो लेक्चर हो उसमें भी पूरी तरह हिंदी का समावेश हो। और साथ ही साथ यह सुनिश्चित किया जाएगा कि जल्द से जल्द एमबीबीएस में हिंदी में पढ़ाई शुरू की जाए।

इसे भी पढ़ें:भय्यू महाराज सुसाइड केस में आरोपियों को 6-6 साल कैद, जिला कोर्ट ने सुनाई सजा 

आपको बता दें कि एमबीबीएस और इंजीनियरिंग की पढ़ाई हिंदी में करवाने की घोषणा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इंदौर में गणतंत्र दिवस के मौके पर की थी। उन्होंने कहा था कि इससे छात्रों को फायदा होगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...