आखिरकार लंबे इंतज़ार के बाद आम श्रद्धालुओं के खुला बाबा काशी विश्वनाथ का दरबार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 7, 2021   22:04
आखिरकार लंबे इंतज़ार के बाद आम श्रद्धालुओं के खुला बाबा काशी विश्वनाथ का दरबार

इसमें एक बार में 5 श्रद्धालु ही दर्शन करेंगे, वहीं श्रद्धालुओं को प्रवेश से पहले मास्क लगाना अनिवार्य होगा। सोशल डिस्टेंसिंग के लिए बने गोले के नियमों का पालन करना होगा। उन्‍होंने बताया कि‍ मंदिर खुलने के दौरान समय-समय पर मंदिर परिसर को सैनिटाइज भी किया जाएगा।

आखिरकार काफी लंबे इंतजार के बाद मंगलवार 8 जून 2021 से बाबा श्री काशी वि‍श्‍वनाथ का कपाट भक्‍तों के लि‍ये खोल दि‍या जाएगा। इस दौरान कोविड प्रोटोकॉल के अनुसार ही दर्शनार्थियों को मंदि‍र के अंदर जाकर बाबा वि‍श्‍वनाथ के दर्शन प्राप्‍त हो सकेंगे। इसमें मास्क लगाने से लेकर सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का भी पालन करना होगा। मंदिर के मुख्य कार्यपालक अधिकारी सुनील कुमार वर्मा ने बताया कि 8 जून से आम दर्शनार्थियों के लिए विश्वनाथ मंदिर खुल जाएगा। इसमें एक बार में 5 श्रद्धालु ही दर्शन करेंगे, वहीं श्रद्धालुओं को प्रवेश से पहले मास्क लगाना अनिवार्य होगा। सोशल डिस्टेंसिंग के लिए बने गोले के नियमों का पालन करना होगा। उन्‍होंने बताया कि‍ मंदिर खुलने के दौरान समय-समय पर मंदिर परिसर को सैनिटाइज भी किया जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश के वाराणसी विधानसभा क्षेत्र में अनिल राजभर ने लोगों के बीच दवा वितरित की

मंदिर की दीवार या किसी विग्रह को स्पर्श करना प्रतिबंधित होगा। उन्होंने बताया कि श्रद्धालु दर्शन के लिए बनाए गए नियमों का पालन करते हुए बाबा को दूर से ही जल चढ़ा सकते हैं। वही पुजारियों और सेवादारों को किसी श्रद्धालु को चंदन टीका लगाना माला फूल पहनने पर प्रतिबंध रहेगा। मुख्‍य कार्यपालक अधि‍कारी के अनुसार गर्भगृह में प्रवेश वर्जित रहेगा। झांकी दर्शन के तहत ही बाबा को जल चढ़ाया जा सकेगा। मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने बताया कि मंदिर को खोलने को लेकर सोशल डिस्टेंसिंग के लिए गोला बनवा लिया गया है। समय-समय पर परिसर को सेनेटाइज भी कराया जा रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...