मुझे गिरफ्तार तो उनका बाप भी नहीं कर सकता, बाबा रामदेव का वीडियो वायरल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 27, 2021   21:00
मुझे गिरफ्तार तो उनका बाप भी नहीं कर सकता, बाबा रामदेव का वीडियो वायरल

वरिष्ठ चिकित्सक और नेशनल जर्नल आफ क्लिनिकल एनाटॉमी के मुख्य संपादक के एस रवि ने कहा कि योग गुरू के ताजा वीडियो से प्रदर्शित हो रहा है कि वह एलोपैथी और एलोपैथिक चिकित्सकों के बारे में असंवेदनशील टिप्पणी करने के बाद बिल्कुल भी शर्मिंदा नहीं हैं।

देहरादून। एलोपैथी के खिलाफ रामदेव की कथित अपमानजनक टिप्पणी पर जारी विवाद के बीच अब एक और विवादास्पद वीडियो सामने आया है जिसमें योग गुरू उन्हें गिरफ्तार किए जाने की मांग पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कह रहे हैं कि उनका बाप भी उन्हें गिरफतार नहीं कर सकता। सोशल मीडिया पर चल रहे अरेस्ट रामदेव ट्रेंड पर जवाब देते हुए उन्होंने कहा, (वे) शोर मचा रहे हैं कि रामदेव को गिरफ्तार करो। कभी कुछ चलाते हैं कभी कहते हैं कि ठग रामदेव, कभी महाठग रामदेव, कभी गिरफतार रामदेव। चलाते रहते हैं, उनको चलाने दो। मजाक बनाते हुए योग गुरू कहते सुनाई दे रहे हैं कि अरेस्ट तो खैर उनका बाप भी नहीं कर सकता स्वामी रामदेव को। 

इसे भी पढ़ें: एलोपैथ बनाम रामदेव: IMA ने पुलिस में दर्ज कराई शिकायत

वरिष्ठ चिकित्सक और नेशनल जर्नल आफ क्लिनिकल एनाटॉमी के मुख्य संपादक के एस रवि ने कहा कि योग गुरू के ताजा वीडियो से प्रदर्शित हो रहा है कि वह एलोपैथी और एलोपैथिक चिकित्सकों के बारे में असंवेदनशील टिप्पणी करने के बाद बिल्कुल भी शर्मिंदा नहीं हैं। रवि नेकहा, रामदेव का बयान अहंकार से भरा हुआ है। यह दिखाता है कि वह अपने आपको कानून से उपर मानते हैं। सोसायटी आफ इंटेलैक्चुअल्स के अध्यक्ष रवि ने कोविड 19 के मुश्किल समय में अपने जीवन को जोखिम में डालकर लोगों की सेवा में लगे चिकित्सकों का मनोबल उठाने के लिए योग गुरू द्वारा एलोपैथी के विरूद्ध बदनाम करने वाली टिप्पणी करने के लिए उनके खिलाफ जल्द कार्रवाई की जानी चाहिए। उत्तराखंड आइएमए के एक पूर्व अध्यक्ष ने नाम उजागर न किए जाने के अनुरोध के साथ कहा, रामदेव इस प्रकार के बयान देते रहते हैं क्योंकि वह राजनीतिक रूप से संरक्षित महसूस करते हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।