लखीमपुर में बघेल बांट रहे 50 लाख का मुआवजा, छत्तीसगढ़ में आत्महत्या करने वाले 141 किसानों के हाथ खाली

लखीमपुर में बघेल बांट रहे 50 लाख का मुआवजा, छत्तीसगढ़ में आत्महत्या करने वाले 141 किसानों के हाथ खाली

बीजेपी के मीडिया सेल के हेड अमित मालवीय ने इसको लेकर कांग्रेस पार्टी और बघेल सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार ने फरवरी 2021 में विधानसभा को सूचित किया था कि 1 फरवरी तक 10 महीने की अवधि में 141 किसानों ने आत्महत्या की है।

लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा और तनाव के बाद इस पर सियासत भी खूब देखने को मिल रही है। योगी सरकार के राजनीतिक दलों को लखीमपुर खीरी जाने की इजाजत देने के बाद से ही ये अब राजनीति और राजनेताओं का फेवरेट पॉलिटिकल स्पॉट भी बन गया है। इसके साथ ही मृतक किसानों के परिवार को लेकर मुआवजे करने में कांग्रेस शासित राज्य भी पीछे नहीं है। पंजाब और छत्तीसगढ़ की सरकारों ने उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में गत रविवार को हुई हिंसा में मारे गए किसानों के परिजन को 50-50 लाख रुपए की सहायता राशि देने का ऐलान किया है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी लखीमपुर खीरी हिंसा में मरे चार किसानों और एक पत्रकार के परिजन को 50-50 लाख रुपए की सहायता देने का ऐलान किया है। लेकिन इसमें गौर करने वाली बात ये है कि यूपी के लखीमपुर के किसान परिवार को मुआजवा देने की घोषणा करने वाले बघेल के खुद के राज्य में पिछले कुछ महीनों में ही 141 किसानों ने आत्महत्या कर ली है।

इसे भी पढ़ें: लखीमपुर की घटना को कांग्रेस की डूबती नैया बचाने के मौके के रूप में देख रहे हैं राहुल: भाजपा

बीजेपी ने उठाए सवाल 

बीजेपी के मीडिया सेल के हेड अमित मालवीय ने इसको लेकर कांग्रेस पार्टी और बघेल सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार ने फरवरी 2021 में विधानसभा को सूचित किया था कि 1 फरवरी तक 10 महीने की अवधि में 141 किसानों ने आत्महत्या की है। मालवीय ने सवाल उठाते हुए पूछा कि क्या आपने भूपेश बघेल को किसी मुआवजे की घोषणा करते देखा? उन्होंने कहा कि न केवल गांधी परिवार के बच्चे बल्कि ये किसान भी मुख्यमंत्री की चिंता और सहानुभूति के पात्र हैं।

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ के कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने विधानसभा में बताया था कि राज्य में पिछले 10 महीने में 141 किसानों ने आत्महत्या की। एक सवाल के जवाब में राज्य के कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने बताया कि इस दौरान 141 किसानों ने विभिन्न कारणों से आत्महत्या की है।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।