बलिया पुलिस ने 220 ट्रैक्टर मालिकों को नोटिस भेजा, ये है वजह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 31, 2021   16:57
बलिया पुलिस ने 220 ट्रैक्टर मालिकों को नोटिस भेजा, ये है वजह

सिकंदरपुर थाना प्रभारी बाल मुकुंद मिश्र ने रविवार को बताया कि थाना क्षेत्र के 220 ट्रैक्टर स्वामियों को नोटिस जारी किया गया है जिसमें उल्लेख किया गया है कि ट्रैक्टर ट्राली का प्रयोग सार्वजनिक मार्ग पर व्यवसायिक कार्य के लिए किया जा रहा है।

बलिया। उत्तर प्रदेश में बलिया जिले के सिकंदरपुर में पुलिस ने व्यावसायिक उपयोग करने को लेकर 220 ट्रैक्टर मालिकों को नोटिस जारी किया है। इसपर विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता राम गोविंद चौधरी ने आरोप लगाया है कि सिकंदरपुर पुलिस नोटिस के जरिये किसानों को धमका रही है। सिकंदरपुर थाना प्रभारी बाल मुकुंद मिश्र ने रविवार को बताया कि थाना क्षेत्र के 220 ट्रैक्टर स्वामियों को नोटिस जारी किया गया है जिसमें उल्लेख किया गया है कि ट्रैक्टर ट्राली का प्रयोग सार्वजनिक मार्ग पर व्यवसायिक कार्य के लिए किया जा रहा है और अल्प वयस्क लोगों द्वारा उन्हें चलाया जाता है। उन्होंने बताया कि इसके कारण सड़क दुर्घटना हो रही है तथा साथ ही, ट्रैक्टर एवं ट्राली के जरिये खनन तस्करी आदि अवैध कार्य भी किया जाता है। 

इसे भी पढ़ें: CM योगी ने की पल्स पोलियो अभियान की शुरुआत, कहा- स्वस्थ भारत के निर्माण के लिए हर नागरिक की स्वस्थ दिनचर्या ज़रूरी

उन्होंने स्पष्ट किया है कि इस नोटिस का किसान आंदोलन से कोई जुड़ाव नही है। संभागीय परिवहन अधिकारी राजेश्वर यादव ने यह पूछे जाने पर कि पुलिस को इस तरह का नोटिस जारी करने का अधिकार है अथवा नही , उन्होंने कहा कि उन्हें इसकी जानकारी नही है। विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता राम गोविंद चौधरी ने आरोप लगाया है कि सिकंदरपुर पुलिस नोटिस के जरिये किसानों को धमका रही है। उन्होंने कहा, ‘‘ट्रैक्टर किसानों के पास ही होता है। किसान आंदोलन में टैक्टर से ही जा रहे हैं। पुलिस ने किसानों को आंदोलन में आवाजाही करने से रोकने के लिए नोटिस जारी किया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।