सरकार का बड़ा फैसला, Omicron को लेकर 31 जनवरी तक अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक जारी

सरकार का बड़ा फैसला, Omicron को लेकर 31 जनवरी तक अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक जारी

सरकार ने अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर लगी रोक को 31 जनवरी तक बढ़ा दिया है। इसका मतलब साफ है कि अन्य देश की यात्रा का प्लान कर रहे लोगों को फिलहाल 31 जनवरी तक राहत नहीं मिलने वाली है।

कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमीक्रोन धीरे-धीरे पैर पसार रहा है। भारत में भी ओमीक्रोन के 23 मामले आ चुके हैं। इसके साथ ही कई देशों में यह बहुत तेजी से फैल रहा है। इसी को ध्यान में रखते हुए सरकार की ओर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को लेकर बड़ा फैसला किया गया है। सरकार ने अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर लगी रोक को 31 जनवरी तक बढ़ा दिया है। इसका मतलब साफ है कि अन्य देश की यात्रा का प्लान कर रहे लोगों को फिलहाल 31 जनवरी तक राहत नहीं मिलने वाली है।

इससे पहले नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को बहाल नहीं करने का फैसला किया था। उल्लेखनीय है कि कोविड-19 महामारी की वजह से पिछले साल 20 मार्च से ही सामान्य अंतरराष्ट्रीय उड़ानें स्थगित हैं। डीजीसीए का यह फैसला 27 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अधिकारियों को दिए निर्देश के बाद आया है। मोदी ने ओमीक्रोन को लेकर बढ़ी चिंता के बाद अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में राहत देने की योजना की समीक्षा करने को कहा था। 

इसे भी पढ़ें: MP में होगी जीनोम सिक्वेंसिंग की जांच, प्रदेश के 5 जिलों को मिलेगी मशीन

डीजीसीए द्वारा बुधवार को जारी परिपत्र में कहा गया कि वायरस के नए स्वरूप के आने के बाद उत्पन्न वैश्विक स्थिति के मद्देनजर हालात पर करीब से नजर रखी जा रही है तथा अन्यहितधारकों से विचार-विमर्श किया जा रहा है। डीजीसीए ने कहा, ‘‘... नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को बहाल करने की प्रभावी तारीख को लेकर उचित फैसले की जानकारी नियत समय पर अधिसूचित की जाएगी।’’ गौरतलब है कि मौजूदा समय में विभिन्न देशों के साथ द्विपक्षीय समझौते के तहत सीमित संख्या में अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का परिचालन किया जा रहा है। गत महीने की 24 तारीख तक भारत ने 31 देशों से उड़ानों के लिए औपचारिक द्विपक्षीय समझौता किया था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...