महामारी की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए हम सभी को मुस्तैद रहना है: गहलोत

Gehlot
राजस्थान में कोरोना वायरस रोधी टीकाकरण के तहत एक करोड़ से अधिक लोगों को टीके की दोनों खुराक लगाई जा चुकी हैं। राज्य में अब 20 प्रतिशत लक्षित जनसंख्या का पूरी तरह टीकाकरण किया जा चुका है।

जयपुर, 26 अगस्त राजस्थान में कोरोना वायरस रोधी टीकाकरण के तहत एक करोड़ से अधिक लोगों को टीके की दोनों खुराक लगाई जा चुकी हैं। राज्य में अब 20 प्रतिशत लक्षित जनसंख्या का पूरी तरह टीकाकरण किया जा चुका है। राजस्थान सरकार ने यह जानकारी दी। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट किया, ‘‘राज्य में चार करोड़ से अधिक लोगों को टीके की कम से कम एक खुराक तथा एक करोड़ से अधिक लोगों को दोनों खुराक लगा दी गई हैं। ’

इसे भी पढ़ें: काबुल हमले के बाद बदले बाइडन के सुर! बोले- आतंकियों हम तुम्हें पकड़कर इसकी सजा देंगे

इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि कोरोना वायरस की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए हम सभी को मुस्तैद रहना है और पूरी सावधानी बरते जाने की जरूरत है। गहलोत ने कहा, ‘ कोरोना वायरस से बचाव करने वाले टीकों की कम उपलब्धता व कोरोना वायरस के नए स्वरूपों के कारण टीके की प्रभावशीलता में कमी होने से तीसरी लहर के आने की आशंका बढ़ जाती है। इसलिए यह बेहद जरूरी है कि पूरी सावधानी बरती जाए। भारत सरकार भी अन्य देशों से अनुभव साझा कर आगे की तैयारी करे।’ उन्होंने कहा, ‘ तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए हम सभी को मुस्तैद रहना है। राज्य में सरकार ने वायरस के नए रूपों के परीक्षण हेतु एसएमएस हॉस्पिटल में जीनोम सीक्वेंसिंग लैब बनाई है।’’ इससे पहले चिकित्सा व स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने कहा कि राजस्थान कोरोना वायरस प्रबंधन के बाद टीकाकरण में भी देश भर में अग्रणी है।

इसे भी पढ़ें: काबुल हवाई अड्डे के बाहर हमले में 12 अमेरिकी नौसैनिकों की मौत:अधिकारी

उन्होंने बताया कि बृहस्पतिवार दोपहर 1 करोड़ से अधिक दूसरी खुराक लगाकर राज्य की 20 प्रतिशत लक्षित जनसंख्या का टीकाकरण किया जा चुका है। चिकित्सा मंत्री ने बताया कि राज्य में 4 करोड़ 12 लाख 67359 लोगों को कोरोना टीके की कुल खुराक लगाई गई हैं। इनमें 3 करोड़ 12 लाख 58116 लोगों को पहली खुराक व 1 करोड़ 9243 लोगों को दोनों खुराक लगाई जा चुकी हैं। उन्होंने बताया कि राज्य में 3177 केंद्रों पर टीकाकरण किया जा रहा है।

इनमें 3109 राजकीय व 68 निजी टीकाकरण केंद्र शामिल हैं। शर्मा ने कहा कि कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए राज्य के सभी शिशु चिकित्सालयों के आधारभूत ढांचे को सुदृढ़ किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि चयनित 332 सीएचसी में आईसीयू बैड के साथ मेडिकल ऑक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित की जा रही है। उन्होंने कहा कि अब तक विभिन्न चिकित्सालयों में 550 से अधिक अतिरिक्त बैड का लोकार्पण किया जा चुका है और इनकी संख्या में लगातार बढ़ोतरी की जा रही है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़