दिल्ली के नीलकंठ मंदिर को तोड़ना चाहती है बीजेपी? AAP विधायक ने शेयर किया आदेश वाला लेटर

दिल्ली के नीलकंठ मंदिर को तोड़ना चाहती है बीजेपी? AAP विधायक ने शेयर किया आदेश वाला लेटर
@AtishiAAP

आप विधायक आतिशी ने सोशल मीडिया पर केंद्र सरकार की तरफ से जारी आदेश का लेटर भी शेयर किया है। मंदिर को गिराने के आदेश पर आप विधायक ने विरोध जताया है। पत्र में जिक्र किया गया है कि धार्मिक संरचना बिना किसी प्राधिकरण के सरकारी भूमि पर बनाई गई थी।

दिल्ली के जहांगीरपुरी में बुलडोजर का विवाद अभी थाम भी नहीं था कि राजस्थान के अलवर में मंदिर गिराए जाने को लेकर खूब बवाल मचा। जिसके बाद जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की बात और फिर से मंदिर को बनाने के दावे कांग्रेस नेता की तरफ से किए गए हैं। लेकिन उन सब के बीच आम आदमी पार्टी की विधायक और प्रवक्ता आतिशी ने एक बड़ा दावा किया है। आप विधायक ने आरोप लगाया है कि केंद्र सरकार ने दिल्ली की श्रीनिवासपुरी के नीलकंठ महादेव मंदिर पर बुलडोजर चलाने का आदेश दिया है।

इसे भी पढ़ें: अलवर में मंदिर ध्वस्त किए जाने को लेकर भाजपा, कांग्रेस के बीच आरोप-प्रत्यारोप

आप विधायक आतिशी ने सोशल मीडिया पर केंद्र सरकार की तरफ से जारी आदेश का लेटर भी शेयर किया है। मंदिर को गिराने के आदेश पर आप विधायक ने विरोध जताया है। पत्र में जिक्र किया गया है कि धार्मिक संरचना बिना किसी प्राधिकरण के सरकारी भूमि पर बनाई गई थी। पत्र में कहा गया है कि सात दिनों के भीतर जमीन खाली करनी होगी। ऐसा नहीं करने की सूरत में इसे ध्वस्त कर दिया जाएगा।  

इसे भी पढ़ें: गोरखपुर के मंदिर में लाउडस्पीकर की आवाज हुई कम तो श्रीकृष्ण जन्मभूमि से हटा स्पीकर, मंदिर प्रशासन ने खुद उठाया यह कदम

आम आदमी पार्टी ने एक नया मोर्चा खोलते हुए बीजेपी सरकार पर आरोप लगाया है कि उन्होंने नीलकंठ महादेव मंदिर को तोड़ने का आदेश दिया है।  मीडिया से बात करते हुए अतिशी ने कहा कि 20 से 22 साल पुराने मंदिर में स्थानीय लोगों की बहुत आस्था है। आतिशी ने कहा कि हम बीजेपी से पूछना चाहते हैं कि उन्हें क्या समस्या है कि अगर इलाके की महिलाएं यहां पर आकर कीर्तन करती हैं। क्यों वो इस मंदिर पर बुलडोजर चलाना चाहते हैं। आतिशी ने सवाल उठाया कि क्या अब हमारे देश का ये हाल हो गया है कि मंदिरों पर बुलडोजर चलाया जाएगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।