गोरखपुर के मंदिर में लाउडस्पीकर की आवाज हुई कम तो श्रीकृष्ण जन्मभूमि से हटा स्पीकर, मंदिर प्रशासन ने खुद उठाया यह कदम

गोरखपुर के मंदिर में लाउडस्पीकर की आवाज हुई कम तो श्रीकृष्ण जन्मभूमि से हटा स्पीकर, मंदिर प्रशासन ने खुद उठाया यह कदम
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में स्थित गोरक्षनाथ मंदिर परिसर, श्रीमानसरोवर मंदिर परिसर और श्री मंगला देवी मंदिर परिसर के लाउडस्पीकरों की आवाज को कम कर दिया गया है। ऐसे में अब मंदिर परिसर के बाहर आवाज नहीं जाएगा। गोरखपुर के मंदिरों में सरकारी दिशा-निर्देशों के अनुसार गुरुवार को ही लाउडस्पीकर की आवाज को कम कर दिया गया।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार ने धार्मिक स्थलों पर लगे लाउडस्पीकर को लेकर जारी दिशा-निर्देशों का असर गोरखपुर के मंदिरों में भी दिखाई दे रहा है। आपको बता दें कि गोरखपुर में स्थित गोरक्षनाथ मंदिर परिसर, श्रीमानसरोवर मंदिर परिसर और श्री मंगला देवी मंदिर परिसर के लाउडस्पीकरों की आवाज को कम कर दिया गया है। ऐसे में अब मंदिर परिसर के बाहर आवाज नहीं जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: योगी सरकार ने की ग्राम स्तर पर खेल प्रतिभाओं को निखारने की बड़ी तैयारी, 100 ग्राम पंचायतों को मिलेगी ओपन जिम 

गोरखपुर के मंदिरों में सरकारी दिशा-निर्देशों के अनुसार गुरुवार को ही लाउडस्पीकर की आवाज को कम कर दिया गया। इसके साथ ही मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मभूमि स्थल से लाउडस्पीकर को हटा दिया गया है।

गौरतलब है कि योगी आदित्यनाथ सरकार ने धार्मिक स्थलों पर लगे लाउडस्पीकर को लेकर दिशा-निर्देश जारी किए थे। जिसके मुताबिक बिना अनुमति के कोई भी धार्मिक जुलूस नहीं निकाला जाना चाहिए और लाउडस्पीकर के इस्तेमाल से दूसरों को असुविधा नहीं होनी चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: आजमगढ़ लोकसभा चुनाव में निरहुआ होंगे बीजेपी प्रत्याशी, अखिलेश पर जमकर साधा निशाना 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि सभी लोगों को अपनी धार्मिक विचारधारा के अनुसार अपनी उपासना पद्धति को मानने की स्वतंत्रता है। इसके साथ ही उन्होंने स्पष्ट कर दिया था कि कोई भी धार्मिक जुलूस बिनी अनुमति के नहीं निकाला जाएगा। उन्होंने कहा था कि उन्हीं जुलूसों को अनुमति दी जाएगी, जो पारंपरिक हों।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...