अरुणाचल के पासीघाट स्थानीय निकाय चुनाव में कांग्रेस की करारी हार, 8 में से 6 सीटों पर भाजपा का कब्जा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 26, 2020   17:41
अरुणाचल के पासीघाट स्थानीय निकाय चुनाव में कांग्रेस की करारी हार, 8 में से 6 सीटों पर भाजपा का कब्जा

राज्य निर्वाचन आयोग के सचिव न्याली ऐते ने कहा, ‘‘आईएमसी के बाकी 15 वार्ड में से चार के चुनाव परिणाम भी आ गए हैं और चारों सीटों पर बेहद कम अंतर से जद(यू) को जीत मिली है। स्थानीय निकाय की अन्य सीटों पर मतगणना जारी है।’’

ईटानगर। अरुणाचल प्रदेश के पासीघाट नगर निगम (पीएमसी) की आठ में से छह सीटें जीत कर भाजपा ने स्थानीय निकाय का शासन कांग्रेस से छीन लिया है वहीं ईटानगर में हुए नगर निगम चुनाव (आईएमसी) में पहली बार हिस्सा लेने वाले जद(यू) को काफी लाभ हुआ और उसके हिस्से में चार सीटें आयी हैं। पीएमसी चुनाव 2013 में सात सीटें जीतने वाली कांग्रेस को इस बार सिर्फ दो वार्ड सीटें मिली हैं। आईएमसीकी 20 सीटों में से भाजपा के पांच उम्मीदवार निर्विरोध जीते हैं। राज्य निर्वाचन आयोग के सचिव न्याली ऐते ने कहा, ‘‘आईएमसी के बाकी 15 वार्ड में से चार के चुनाव परिणाम भी आ गए हैं और चारों सीटों पर बेहद कम अंतर से जद(यू) को जीत मिली है। स्थानीय निकाय की अन्य सीटों पर मतगणना जारी है।’’ 

इसे भी पढ़ें: अरुणाचल घटनाक्रम के बाद RJD ने नीतीश कुमार को बीजेपी से संबंध तोड़ने की दी चुनौती 

स्थानीय निकाय चुनाव 2013 में पीएमसी की 12 और आईएमसी की 30 सीटें थीं। लेकिन वार्डों के परिसीमन के बाद दोनों शहरी निकायों की सीटें घट गईं। पिछले चुनाव में पीएमसी में कांग्रेस को सात सीटें मिली थीं, भाजपा को दो और निर्दलीय उम्मीदवारों को तीन सीटें मिली थीं। आईएमसी चुनाव 2013 में कांग्रेस को 21 सीटें मिली थीं। वहीं राकांपा को चार, भाजपा को तीन, पीपुल्स पार्टी ऑफ अरुणाचल को एक और निर्दलीय को एक सीट मिली थी। 

इसे भी पढ़ें: अरुणाचल में जदयू के छह विधायक भाजपा में शामिल, मामले को नीतीश ने नहीं दिया महत्व 

स्थानीय निकाय चुनाव में जनता दल (यूनाइटेड) का प्रदर्शन काफी मायने रखता है क्योंकि अरुणाचल प्रदेश में उसके सात में से छह विधायक भाजपा का दामन थाम चुके हैं। अरुणाचल प्रदेश में 2019 में हुए विधानसभा चुनाव में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अगुवाई में जदयू ने 15 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे जिनमें से सात सीटों पर उसे जीत मिली थी। राज्य में जदयू भाजपा के बाद दूसरा सबसे बड़ा दल बन कर उभरा था। भाजपा को 41 सीटें मिली थीं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।