नये कृषि कानूनों के कारण हो रही आलू, प्याज की कालाबाजारी: ममता बनर्जी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 24, 2020   19:08
नये कृषि कानूनों के कारण हो रही आलू, प्याज की कालाबाजारी: ममता बनर्जी

केन्द्र सरकार पर इन कानूनों के जरिए किसानों से सबकुछ लूटने का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आलू के दाम में चिंताजनक बढ़ोतरी हो रही है। उन्होंने कहा कि पहले आवश्यक वस्तुओं की सूची में शामिल रहे आलू, प्याज जैसी चीजों की कीमतों में बढ़ोतरी के लिए राज्य सरकार को दोष नहीं दिया जाना चाहिए।

बांकुरा (पश्चिम बंगाल)।  पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को दावा किया कि केन्द्र सरकार द्वारा लाए गए नए कृषि कानूनों के कारण आलू, प्याज की कालाबाजारी हो रही है और जरूरी वस्तुओं की कीमत बढ़ रही है। बनर्जी ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि केन्द्र सुनिश्चित करे कि इन चीजों की कालाबाजारी ना हो और राज्यों को इन समस्याओं से निपटने के लिए आवश्यक अधिकार दिए जाएं। 

इसे भी पढ़ें: PM मोदी ने CMs से थोड़ी भी ढिलाई ना बरतने को कहा, पहले से ज्यादा सतर्क रहने पर दिया जोर

प्रशासनिक बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘केन्द्र सरकार ने विनाशकारी कृषि कानून बनाए हैं जिनके कारण आलू, प्याज जैसी जरूरी चीजों की कालाबाजारी हो रही है।’’ तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ने कहा, ‘‘पहले हम इन जरूरी चीजों की कीमतों पर नियंत्रण रखते थे, लेकिन केन्द्र के कानूनों ने राज्यों से यह अधिकार छीन लिया है। इससे किसानों और ग्राहकों को नुकसान हो रहा है।’’ केन्द्र सरकार पर इन कानूनों के जरिए किसानों से सबकुछ लूटने का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आलू के दाम में चिंताजनक बढ़ोतरी हो रही है। उन्होंने कहा कि पहले आवश्यक वस्तुओं की सूची में शामिल रहे आलू, प्याज जैसी चीजों की कीमतों में बढ़ोतरी के लिए राज्य सरकार को दोष नहीं दिया जाना चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।