कोरोना के ठीक हो चुके मरीजों का बिक रहा खून, डार्क वेब पर हो रही वैक्सीन की बात

कोरोना के ठीक हो चुके मरीजों का बिक रहा खून, डार्क वेब पर हो रही वैक्सीन की बात

अगर्था (Agartha) नाम की एक डार्क वेब मार्केट पर कोरोना वायरस के खिलाफ रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए ठीक हो चुके मरीजों का प्लाज्मा लिस्टेड किया गया है।

चीन के वुहान शहर से शुरू हुए कोरोना वायरस संक्रमण की मार विश्व का लगभग एक देश झेल रहा है। इस बीच डार्क वेब को लेकर कुछ ऐसी जानकारियां सामने आईं हैं जो पहले कभी देखी या सुनी नहीं गई थी। बता दें कि डार्क वेब में कोरोना वायरस बीमारी से जंग जीत चुके लोगों का प्लाज्मा बिक रहा है। इतना ही नहीं इस वायरस की 'वैक्सीन' तक बेचे जाने की बात हो रही है। दरअसल, चोरी छिपे तरीके से ठीक हो चुके मरीजों का खून इसके जरिए बेचा जा रहा है।

डार्क वेब पर बिक रहा प्लाजा

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के मुताबिक अगर्था (Agartha) नाम की एक डार्क वेब मार्केट पर कोरोना वायरस के खिलाफ रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए ठीक हो चुके मरीजों का प्लाज्मा लिस्टेड किया गया है। सेलर ने शुरुआत में 25 एमएल का पैकेट बनाकर प्लाज्मा बेचा था। जो बाद में 50 एमएल, 100 एमएल, 500 एमएल से होता हुआ एक लीटर तक जा पहुंचा। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना के उपचार में प्लाज्मा थैरेपी को देखते हुये राज्य में इसे आगे बढ़ाया जाए: योगी 

मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि अब तक सेलर ने 2.036 बिट क्‍वाइंस यानी कि 10 लाख 86 हजार रुपए में एक लीटर खून बेचा है।

क्यो बिक रहा प्लाज्मा ?

शोध में दावा किया गया है कि प्लाज्मा थेरेपी के जरिए कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों को ठीक किया जा सकता है। मिली जानकारी के मुताबिक एक शख्स के शरीर से निकाले गए प्लाजा से दो व्यक्तियों का इलाज किया गया जो ठीक हो गए। जिसकी वजह से प्लाज्मा की डार्क वेब में बिक्री शुरू हो गई।

इसके पीछे वजह यह है कि शोधकर्ताओं को भरोसा है कि कोरोना वायरस नामक महामारी से ठीक हो चुके मरीजों के प्लाज्मा के जरिए संक्रमित व्यक्तियों को ठीक किया जा सकता है। ऐसा कहा जा रहा है कि ठीक हो चुके मरीज के शरीर में एंटीबॉडी डिवेलप होती है। जो किसी वायरस के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता को विकसित करने में सहायता करती हैं। 

इसे भी पढ़ें: देश में कोविड-19 से मरने वालों की संख्या 480 हुई, संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 14,378 हुई 

ऐसे में ठीक हो चुका व्यक्ति अगर रक्तादान करता है तो उसके खून से प्लाज्मा निकाला जाता है और फिर प्लाज्मा में मौजूद एंटीबॉडी को जब संक्रमित व्यक्ति में डाला जाता है तो वह बीमार व्यक्ति को ठीक होने में मदद करता है।

यह सब जानते है कि कोरोना वायरस जंग को हजारों लोग जीत चुके हैं और ठीक हो चुके इन लोगों के शरीर में यह एंटीबॉडी मौजूद है। हालांकि जब संक्रमित व्यक्ति टेस्ट में नेगेटिव आ जाए उसके दो हफ्ते बाद वह प्लाज्मा डोनेट कर सकता है।

कोरोना की वैक्‍सीन नहीं बनी

यूं तो डार्क वेब पर मौजूद सेलर अपने दावे निभाते हैं लेकिन वैक्सीन वाला दावा झूठा लगता है। क्योंकि अभी तक कोरोना वायरस की वैक्‍सीन नहीं बनी है। अंग्रेजी अखबार में छपी खबर के मुताबिक कोविड-19 से जुड़ा हुआ व्यापार मुख्‍य रूप से धोखा है। 

इसे भी पढ़ें: प्लाज्मा तकनीक का चिकित्सीय परीक्षण तीन से चार दिन में शुरू किया जायेगा: केजरीवाल 

सेफ्टीफर्स्ट 2020 (safetyfirst2020) नाम का सेलर डार्क वेब पर कोरोना एंटीवायरस डिटेक्टिव डिवाइस की बिक्री कर रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया कि अगर्था पर कोरोना वायरस की वैक्‍सीन 0.065 बिटक्‍वाइंस यानी की 34,751 भारतीय रुपए में बेची जा रही है। वहीं पाक्स रोमाना (Pax Romana) नामक साइड पर 20 कैप्सूल का पैकेट बेचा जा रहा है। जिसमें रिकवरी के चांस का दावा किया जा रहा है। इसकी कीमत 43 डॉलर यानी की 3,291 रुपए तय की गई है।

जैसा कि पहले ही आपको बताया गया है कि कोरोना वायरस नामक वैक्सीन अभी तक बना नहीं है। हालांकि वैक्सीन बनाने का प्रयास अभी कई सारे देश कर रहे हैं। इसलिए कोविड-19 से जुड़ा हुआ व्यापार फर्जी है। 

इसे भी पढ़ें: जूम से बचिए, नहीं तो हो जाएंगे क्लीन बोल्ड, सरकार ने कहा- नहीं करें ऐप का इस्तेमाल 

डीप वेब पर कोरोना को लेकर काफी ज्यादा चर्चा हो रही है और यह भी पूछा जा रहा है कि कोविड-19 से जुड़े हुए सामान को कहा से खरीदना सेफ है। बगैरह-बगैरह। एक वेब शोधकर्ता क्रिस मॉन्‍टीरो के मुताबिक, एक नियम की तरह डार्क वेब की मार्केट्स उन कैटेगरीज पर प्रतिबंध लगा देती है जो हमेशा धोखाधड़ी करते हैं। ऐसे में संभावना जताई जा रही है कि डार्क वेब में कोरोना वायरस से जुड़े हुए विज्ञापनों को हटाया जा सकता है और इसके वेंडर्स पर प्रतिबंध लग सकता है।

इसे भी देखें : Plasma Therapy क्या है, क्या सचमुच यह Corona Virus को हराने में सक्षम है  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।