केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को ब्रिटेन का वातायन शिखर सम्मान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 21, 2020   11:35
  • Like
केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को ब्रिटेन का वातायन शिखर सम्मान
Image Source: Google

माननीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ जी को आज वातायन-यूके संगठन द्वारा ‘वातायन अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार’ से नवाजा जा रहा है। यह सम्मान इनसे पहले साहित्यिक योगदान के लिए प्रसून जोशी, जावेद अख्तर सरीखे जाने-माने व्यक्तियों को ही मिल पाया है।

लेखन, काव्य और अन्य साहित्यिक कार्यों के लिए देश के शिक्षा मंत्री माननीय डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ जी को राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय पटलों पर मिले सम्मान और पुरस्कार की सूची में एक अतिविशिष्ट सम्मान जुड़ गया है, जिस पर शिक्षा जगत से जुड़ा प्रत्येक भारतीय स्वयं को अलंकृत, वैभवशाली एवं गौरवान्वित अनुभव कर रहा है। देश में भारत केंद्रित राष्ट्रीय शिक्षा नीति को धरातल पर उतारने के लिए भागीरथ प्रयत्न कर रहे माननीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ जी को आज वातायन-यूके संगठन द्वारा ‘वातायन अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार’ से नवाजा जा रहा है। यह सम्मान इनसे पहले साहित्यिक योगदान के लिए प्रसून जोशी, जावेद अख्तर सरीखे जाने-माने व्यक्तियों को ही मिल पाया है। इस पुरस्कार की शुरुआत कैंब्रिज विश्वविद्यालय में भाषा विज्ञान के रीडर डॉ. सत्येन्द्र श्रीवास्तव ने ब्रिटेन के साउथ बैंक हॉल के रॉयल फेस्टिवल में की थी।

इसे भी पढ़ें: पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी बोले, धार्मिक कट्टरता और आक्रामक राष्ट्रवाद का शिकार हुआ भारतीय समाज

वातायन-यूके अंतरराष्ट्रीय संस्था अंतरराष्ट्रीय साहित्यिक संघों की सहकारिता के लिए प्रयासरत रहा है। इसी उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए यह संगठन यूनाइटेड किंगडम हिंदी समिति और वैश्विक हिंदी परिवार के सहयोग से प्रख्यात अंतरराष्ट्रीय लेखकों के जीवन और उपलब्धियों पर आधारित अनेकों कार्यक्रमों का आयोजन कर रहा है। 21 नवम्बर 2020 को लंदन में होने वाले वातायन अंतरराष्ट्रीय शिखर सम्मान में भारत के शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ जी को वातायन लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित करने के लिए प्रतिष्ठित लेखक एवं नेहरु केंद्र, लंदन के निदेशक डॉ. अमीश त्रिपाठी और वातायन-यूके संगठन की अध्यक्ष श्रीमती मीरा कौशिक विशेष रूप से उपस्थित रहेंगे। 

रमेश पोखरियाल से निर्भय, निडर और निशंक तक का सफ़र:

उत्तराखंड के गढ़वाल जिले के गांव पिनानी, जनपद पौड़ी में 1959 में एक अत्यंत निर्धन परिवार में माता स्व. विश्वेश्वरी देवी एवं श्री परमानन्द पोखरियाल के घर में जन्में डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ जी ने 1980 में पृथक उत्तराखंड हेतु संघर्ष की शुरुआत की, और 2009 में उत्तराखंड राज्य के सबसे युवा मुख्यमंत्री बने। वर्ष 2014 से 2019 तक लोकसभा की सरकारी आश्वासन समिति के सभापति के रूप में अपनी सेवाएं दीं और वर्तमान में बतौर भारत सरकार के शिक्षा मंत्री के रूप अपनी सेवाएं दे रहे हैं। डॉ. निशंक का प्रथम कविता संग्रह 1983 में प्रकाशित हुआ। विश्व में शायद ही किसी देश के पास ऐसा पढ़ा-लिखा, सूझवान और साहित्यिक शिक्षा मंत्री हो, जो अब तक राजनैतिक एवं सामाजिक योगदान के साथ-साथ देश को साहित्यिक ऊर्जा देने का भी कार्य कर रहा हो। माननीय निशंक जी के 14 कविता संग्रह, 12 कहानी संग्रह, 11 उपन्यास, 4 पर्यटन ग्रन्थ, 6 बाल साहित्य और 4 व्यक्तित्व विकास सहित कुल 65 पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं।

इसे भी पढ़ें: गुपकार गठबंधन को मुख्यमंत्री शिवराज ने बताया गुप्तचर संगठन, बोले- ये लोग पाक और चीन के लिए कर रहे हैं जासूसी

डॉ. निशंक जी की साहित्यिक कृतियों का जर्मन, क्रियोल, स्पेनिश, अंग्रेजी, फ्रेंच, नेपाली सरीखी विदेशी भाषाओं के अलावा तेलुगु, तमिल, मलयालम, कन्नड़, गुजराती, बंगला, संस्कृत और मराठी आदि भारतीय भाषाओं में अनुवाद हो चुका है। इतना ही नहीं डॉ. निशंक जी के साहित्य पर देश और विदेशों में 16 शोध एवं लघु-शोध हो चुके हैं। मॉरिशस के तत्कालीन राष्ट्रपति सर अनिरुद्ध जगन्नाथ एवं तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ. नवीन रामगुलाम ने डॉ. निशंक के साहित्य को हिमालय जीवन के दुःख-दर्द एवं जीवत परिस्थितियों का साक्षात् प्रतिबिम्ब दर्शाने वाले साहित्यकार की उपाधि दी है, जिनकी लेखनी में उदार हृदय, विनम्र, राष्ट्रभक्त एवं संवेदनशील साहित्यकार झलकता है। 

 

भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ. ज्ञानी जैल सिंह ने कहा था कि युवा साहित्यकार निशंक की लेखनी में मातृभूमि के लिए कुछ कर-गुजरने की छटपटाहट दिखती है। और आज देश में छात्र केंद्रित राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन हेतु प्रतिबद्ध माननीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ जी ने इतने वर्ष पूर्व डॉ. ज्ञानी जैल सिंह जी के द्वारा कही गई बात को सच कर दिखाया है। डॉ. निशंक जी को मिलने वाले पुरस्कारों का ब्यौरा नया नहीं। वातायन लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से पहले उन्हें युगांडा के राष्ट्रपति श्री रूहकाना रुगांडा द्वारा मानवीय शिखर सम्मान से भी सम्मानित किया गया था। आज जब लंदन में होने वाले इस वातायन-यूके कार्यक्रम में वातायन लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड माननीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ जी को मिलेगा, तो शिक्षा के क्षेत्र से जुड़ा प्रत्येक भारतीय गौरवान्वित महसूस करेगा। डॉ. निशंक जी के जीवन एवं संघर्ष को दर्शाती उनके कविता संग्रह ‘सृजन के बीज’ में प्रकाशित कविता ‘वे सदा सफल’ की ये पंक्तियाँ हमें सदैव प्रेरणा प्रदान करती रहेंगी:

 

“जो समय न व्यर्थ गंवाते हैं, जो नहीं बीच में रुकते हैं, 

जो मन में एक जूनून लिए, जो झूम-झूम के गाते हैं, 

अपना तन-मन न्यौछावर कर, सदा सफलता पाते हैं।”

हम सभी भारतीयों को जीवन की अनंत विपरीत परिस्थितियों, चुनौतियों, संघर्षों को अपने साहस एवं निरंतर प्रयासों से संभावनाओं में बदलने एवं सफलता पाने का साहस प्रदान करेगा।

-प्रो. राघवेन्द्र प्रसाद तिवारी

कुलपति, पंजाब केंद्रीय विश्वविद्यालय, बठिंडा; और 

सदस्य, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, नई दिल्ली  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


जम्मू-कश्मीर में DDC चुनाव के दूसरे चरण के लिए मतदान जारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 1, 2020   08:41
  • Like
जम्मू-कश्मीर में DDC चुनाव के दूसरे चरण के लिए मतदान जारी
Image Source: Google

डीडीसी के दूसरे चरण के लिए मतदान में शुरुआती सूचना के अनुसार सुबह-सुबह कड़ाके की ठंड के कारण बहुत कम लोग मतदान केन्द्रों पर पहुंचे हैं। उन्होंने कहा कि दिन चढ़ने और तापमान बढ़ने के साथ मतदान में तेजी आने की संभावना है।

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर में कड़ाके की ठंड और कड़े सुरक्षा इंतजाम के बीच जिला विकास परिषद (डीडीसी) के दूसरे चरण के लिए मतदान शुरू हो गया है। एक अधिकारी ने बताया, ‘‘मतदान सुबह सात बजे शुरू हुआ। शुरुआती सूचना के अनुसार सुबह-सुबह कड़ाके की ठंड के कारण बहुत कम लोग मतदान केन्द्रों पर पहुंचे हैं। उन्होंने कहा कि दिन चढ़ने और तापमान बढ़ने के साथ मतदान में तेजी आने की संभावना है। डीडीसी के दूसरे चरण के चुनाव के लिए 321 उम्मीदवार मैदान में हैं और इस चरण में पंजीकृत 7.90 लाख मतदाताओं के लिए 2,142 मतदान केन्द्र बनाए गए हैं।

जम्मू-कश्मीर में 280 सीटें हैं जिनमें से दूसरे चरण में 43 पर चुनाव हो रहा है। इनमें से 25 कश्मीर में और 18 जम्मू में हैं।

इसे भी पढ़ें: भाजपा ने कश्मीर के डीडीसी चुनाव के लिए उर्दू में जारी किया चुनाव घोषणा पत्र

केन्द्र शासित प्रदेश में 83 सरपंच पदों के लिए चुनाव हो रहा है जिसके लिए 223 उम्मीदवार मैदान में हैं। इसके अलावा 331 पंच पदों पर उपचुनाव हो रहे हैं जिसके लिए 700 से ज्यादा प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं। प्रशासन ने घाटी के सभी 1,300 मतदान केन्द्रों को संवेदनशील घोषित किया है। जम्मू-कश्मीर के निर्वाचन आयुक्त के. के.शर्मा ने सोमवार को कहा, ‘‘सुरक्षा के दृष्टिकोण से कश्मीर के लगभग सभी मतदान केन्द्र संवेदनशील हैं। घाटी के मतदान केन्द्रों पर अतिरिक्त सुरक्षा मुहैया करायी गई है।’’





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


डीके शिवकुमार बोले, कांग्रेस महात्मा गांधी, स्वामी विवेकानंद के हिंदुत्व में रखती है विश्वास

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 1, 2020   08:33
  • Like
डीके शिवकुमार बोले, कांग्रेस महात्मा गांधी, स्वामी विवेकानंद के हिंदुत्व में रखती है विश्वास
Image Source: Google

शिवकुमार ने राज्य में हो रहे बदलाव और संगठन के तौर पर कांग्रेस को मजबूत करने को लेकर सोमवार को पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की बैठक बुलाई थी। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में बूथ एवं पंचायत स्तर पर समितियों का गठन किया जाएगा।

बेंगलुरु। कांग्रेस की कर्नाटक इकाई के अध्यक्ष डीके शिवकुमार ने सोमवार को कहा कि हिंदुत्व किसी एक की संपत्ति नहीं है और कांग्रेस महात्मा गांधी तथा स्वामी विवेकानंद के हिंदुत्व में विश्वास रखती है। अंतर-धार्मिक विवाह और हिंदुत्व की राजनीति के संबंध में पूछे गए एक सवाल पर प्रतिक्रिया देते हुए शिवकुमार ने संवाददाताओं से कहा, ' हमारा हिंदुत्व महात्मा गांधी का, स्वामी विवेकानंद का हिंदुत्व है। हिंदुत्व किसी एक की संपत्ति नहीं है। भारत की परंपरा, संस्कृति ही संपदा है जो हम सभी से संबंधित है। हम (कांग्रेस) अपने संविधान के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति के हितों की सुरक्षा करेंगे।'

इसे भी पढ़ें: तृणमूल कांग्रेस में अंसतोष के स्वर मुखर! भाजपा सांसद ने ममता को इस खतरे से चेताया

शिवकुमार ने राज्य में हो रहे बदलाव और संगठन के तौर पर कांग्रेस को मजबूत करने को लेकर सोमवार को पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की बैठक बुलाई थी। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में बूथ एवं पंचायत स्तर पर समितियों का गठन किया जाएगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के 1324 नए मामले, 18 लोगों की मौत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 1, 2020   08:29
  • Like
छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के 1324 नए मामले, 18 लोगों की मौत
Image Source: Google

स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि राज्य में सोमवार को 153 लोगों को संक्रमण मुक्त होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दी गई है, वहीं 1586 लोगों ने गृह-पृथकवास पूरा किया है ।

रायपुर। छत्तीसगढ़ में पिछले 24 घंटों के दौरान 1324 नए लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है और राज्य में इस वायरस से संक्रमित हुए लोगों की संख्या 2,37,322 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग ने इसकी जानकारी दी । स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि राज्य में सोमवार को 153 लोगों को संक्रमण मुक्त होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दी गई है, वहीं 1586 लोगों ने गृह-पृथकवास पूरा किया है । राज्य में कोरोना वायरस संक्रमित 18 लोगों की मौत हुई है। विभाग के अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि आज संक्रमण के 1324 मामले आए हैं। इनमें रायपुर जिले से 186, दुर्ग से 169, राजनांदगांव से 73, बालोद से 74, बेमेतरा से 26, कबीरधाम से 28, धमतरी से 33, बलौदाबाजार से 57, महासमुंद से 35, गरियाबंद से 23, बिलासपुर से 103, रायगढ़ से 104, कोरबा से 63, जांजगीर—चांपा से 118, मुंगेली से 14, गौरेला—पेंड्रा—मरवाही से चार, सरगुजा से 30, कोरिया से 21, सूरजपुर से 47, बलरामपुर से 32, जशपुर से आठ, बस्तर से 12, कोंडागांव से 19, दंतेवाड़ा से 18, सुकमा से तीन, कांकेर से 19, नारायणपुर से एक, बीजापुर से दो तथा अन्य राज्य से दो मरीज शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के 1,879 नए मामले, संक्रमितों की तादाद 2 लाख 32 हजार के पार

अधिकारियों ने बताया कि छत्तीसगढ़ में अब तक 2,37,322 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है जिसमें से 2,14,826 मरीज इलाज के बाद संक्रमण मुक्त हुए हैं, राज्य में 19,635 मरीज उपचाराधीन हैं। राज्य में वायरस से संक्रमित 2861 लोगों की मौत हुई है। राज्य के रायपुर जिले में सबसे अधिक 46,526 लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि की गई है। जिले में कोरोना वायरस संक्रमित 656 लोगों की मौत हुई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।