देश में आ गया बच्चों का कोरोना कवच, 6 से 12 के बच्चों को लगेगी कोवैक्सीन

देश में आ गया बच्चों का कोरोना कवच, 6 से 12 के बच्चों को लगेगी कोवैक्सीन
ANI

भारत के औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने मंगलवार को 6-12 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए भारत बायोटेक के कोवैक्सीन को आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण (ईयूए) प्रदान किया। इसके अलावा दवा नियामक ने दो और टीकों को मंजूरी दी।

देश में कोरोना ने एक बार फिर से अपनी रफ्तार को बढ़ाना शुरू किया है। इससे बचाव के लिए भारत सरकार ने भी अपनी तैयारियां तेज कर दी है। वैक्सीन को कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सबसे कारगर हथियार माना जाता है। कोरोना के टीका पर सबसे बड़ी खबर सामने आई है। अब छह से बारह साल के बच्चों को कोरोना का टीका लगाया जाएगा। डीसीजीआई की तरफ से कोरोना वैक्सीनेशन को मंजूरी दे दी गई है। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में बढ़ रहे कोरोना के मामले, पिछले 24 घंटे में 1094 मामले दर्ज, दो लोगों ने तोड़ा दम

भारत के औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने मंगलवार को 6-12 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए भारत बायोटेक के कोवैक्सीन को आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण (ईयूए) प्रदान किया। इसके अलावा दवा नियामक ने दो और टीकों को मंजूरी दी। कोर्विवैक्स को 5-12 वर्ष के आयु वर्ग के लिए ईयूए दिया गया है और जायडस कडिलाकी दो-खुराक वाली कोविड-19 वैक्सीन वयस्कों के लिए स्वीकृत की गई है।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में फिर पांव पसारने लगा कोरोना, पॉजिटिविटी रेट 7 फीसदी के पार, 24 घंटे में इतने नए मामले आए सामने

25 दिसंबर को भारत द्वारा दुनिया के सबसे बड़े वयस्क कोविड -19 टीकाकरण अभियान में से एक को शुरू करने के एक साल से भी कम समय के बाद, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 15-18 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए टीकाकरण की घोषणा की थी। यह निर्णय देश के विभिन्न हिस्सों में ओमीक्रॉन के एक्सई वेरिएंट और चरणबद्ध तरीके से स्कूलों और कॉलेजों को फिर से खोलने की पृष्ठभूमि में आया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।