मेट्रो की फिर से शुरुआत को लेकर CISF ने तैयार किया प्रस्ताव- बिना मास्क वालों को प्रवेश नहीं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 23, 2020   22:13
मेट्रो की फिर से शुरुआत को लेकर CISF ने तैयार किया प्रस्ताव- बिना मास्क वालों को प्रवेश नहीं

मास्क पहनने के साथ-साथ आरोग्य सेतु एप भी मोबाइल में डाउनलोड होना चाहिए। यदि किसी यात्री में फ्लू के लक्षण होंगे तो उसे यात्रा की अनुमति नहीं मिलेगी। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में मेट्रो नेटवर्क की सुरक्षा में तैनातअर्धसैनिक बल ने यात्रियों और कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए एक योजना तैयार की है।

नयी दिल्ली। दिल्ली मेट्रो के संचालन के फिर शुरू होने पर यात्रियों के प्रवेश को लेकर सीआईएसएफ ने एक प्रस्ताव तैयार किया है। बृहस्पतिवार को तैयार इस प्रस्ताव में शामिल उपायों के तहतयात्रियों को जांच से पूर्व शरीर पर धारण की गई किसी भी धातु को हटाना होगा। मास्क पहनने के साथ-साथ आरोग्य सेतु एप भी मोबाइल में डाउनलोड होना चाहिए। यदि किसी यात्री में फ्लू के लक्षण होंगे तो उसे यात्रा की अनुमति नहीं मिलेगी। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में मेट्रो नेटवर्क की सुरक्षा में तैनातअर्धसैनिक बल ने यात्रियों और कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए एक योजना तैयार की है।

मिली जानकारी के अनुसार दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) और शहरी विकास मंत्रालय के परामर्श के बाद ही बल द्वारा प्रस्तावित योजना को लागू किया जाएगा। बल द्वारा प्रस्तावित योजना के अनुसार लगभग 12,000 पुरुष और महिला कर्मियों को 160 से अधिक मेट्रो स्टेशनों की सुरक्षा के लिए तैनात किया गया जाएगा जिससे रेल नेटवर्क की सेवाओं को चरणबद्ध तरीके से फिर से शुरू किया जा सके। योजना में कहा गया है, आरोग्य सेतु एप्लिकेशन से जारी ई-पास से कोविड-29 के लक्षण वाले संदिग्ध व्यक्तियों की पहचान उन्हें मेट्रो के उपयोग से रोका जा सकता है। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 2,248 हुई, अब तक 48 रोगियों की मौत

मेट्रो परिसर में प्रवेश करने वाले हर व्यक्ति के लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा साथ ही हर प्रवेश बिंदु पर हैंडवाश और हैंड सैनिटाइजर की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।” प्रस्ताव के अनुसार प्रत्येक स्टेशन में प्रवेश से पूर्व थर्मल जांच की जाएगी और जिनका तापमान सामान्य नहीं होगा उन्हें प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी। खांसी, जुकाम जैसे फ्लू के लक्षणों वाले व्यक्तियों को भी प्रवेश नहीं मिलेगा। सीआईएसएफ के महानिदेशक राजेश रंजन ने पीटीआई-को बताया कि इस प्रस्ताव को यह ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है कि यात्रियों, बल के कर्मियों, डीएमआरसी के कर्मियों और परिसर के अन्य लोगों की गति, सुरक्षा और संरक्षा को सुनिश्चित किया जा सके।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।