श्रीनगर और जम्मू हवाई अड्डे की सुरक्षा की जिम्मेदारी अब CISF संभालेगा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 19, 2020   10:11
श्रीनगर और जम्मू हवाई अड्डे की सुरक्षा की जिम्मेदारी अब CISF संभालेगा

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने शनिवार को बताया कि इस महीने के आखिर तक जम्मू और श्रीनगर हवाई अड्डों की सुरक्षा जिम्मेदारी स्थानीय पुलिस के बजाय केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) संभालेगा।

जम्मू। जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने शनिवार को बताया कि इस महीने के आखिर तक जम्मू और श्रीनगर हवाई अड्डों की सुरक्षा जिम्मेदारी स्थानीय पुलिस के बजाय केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) संभालेगा। आधिकारिक प्रवक्ता ने बताया कि हालांकि, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) मौजूदा व्यवस्था के तहत इन दोनों स्थानों की सुरक्षा जारी रखेगा।

इसे भी पढ़ें: आतंकियों से साथ रहने वाले दविंदर सिंह को बचाने की कोशिश में मोदी सरकार: दिग्विजय 

उन्होंने बताया, ‘‘ केंद्रीय नागर विमानन सुरक्षा ब्यूरो (बीसीएएस)के निरीक्षण पर कार्रवाई करते हुए एवं केंद्रशासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर को भी देश के अन्य हिस्सों के स्तर पर लाने के लिए 31 जनवरी तक जम्मू और श्रीनगर हवाई अड्डे की सुरक्षा संबंधी जिम्मेदारी सीआईएसएफ को देने की प्रक्रिया शुरू की गई है जो अबतक तक स्थानीय पुलिस के जिम्मे थी। हालांकि, सीआरपीएफ मौजूदा स्थिति के अनुरूप सुरक्षा मुहैया कराना जारी रखेगा।’’

इसे भी पढ़ें: मोदी ने मंत्रियों से कहा, कश्मीर में विकास का संदेश फैलाएं और गांवों का दौरा करें

प्रवक्ता ने कहा कि इसके अनुरूप दोनों हवाई अड्डों पर सीआईएसएफ जवानों की तैनाती करने की व्यवस्था की जा रही है । उन्होंने कहा, ‘‘ विमानन सुरक्षा में सीआईएसएफ की विशेषज्ञता के मद्देनजर यात्री यातायात संभालने वाले सभी हवाई अड्डों की सुरक्षा जिम्मेदारी बल निभाता है।’’


इसे भी देखें- रूला देगी कश्मीरी पंडितों की दास्तां, ट्विटर पर ट्रेंड हुआ





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।