राजस्थान की सियासी उठापटक पर बोले CM गहलोत, हम यह लड़ाई जीतेंगे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 29, 2020   17:30
राजस्थान की सियासी उठापटक पर बोले CM गहलोत, हम यह लड़ाई जीतेंगे

राजस्थान की जनता को मैं विश्वास दिलाना चाहता हूं कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई हमारी प्राथमिकता है। क्योंकि राजनीतिक उठापटक सरकारों की प्राथमिकता नहीं हो सकती है ... हमारी पहली प्राथमिकता मानव का जीवन है।

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्य में जारी राजनीतिक गतिरोध की ओर संकेत करते हुए बुधवार को कहा कि ‘‘यह लड़ाई हम जीतेंगे।’’ इसके साथ ही गहलोत ने कहा कि उनकी सरकार स्थायी व मजबूत है। गहलोत बुधवार को कांग्रेस के प्रदेश मुख्यालय में पार्टी के नये प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा द्वारा पदभार ग्रहण करने के अवसर पर पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। गहलोत ने कहा, ‘‘केंद्र सरकार के सहयोग से, भाजपा के षडयंत्र से, धनबल के प्रयोग से राज्य की कांग्रेस सरकार को अस्थिर करने का षड्यंत्र चल रहा है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘यह जो माहौल बना है, उससे चिंता करने की जरूरत नहीं है। हमारी सरकार स्थायी और मजबूत है।’’ पार्टी से बगावत करने वालों को माफी को लेकर गहलोत ने कहा कि इस बारे में फैसला आलाकमान को करना है। उन्होंने कहा, ‘‘यह लड़ाई हम जीतेंगे और जिन लोगों ने पार्टी को धोखा दिया है वे या तो वापस आ जायेंगे, माफी मांग लेंगे पार्टी आलाकमान से कि गलती हो गई। आलाकमान जो भी फैसला करे हमें मंजूर होगा, परन्तु हम चाहेंगे जनता के विश्वास को तोड़े नहीं।’’ गहलोत ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण महामारी से निपटना उनकी सरकार की प्राथमिकता है। 

इसे भी पढ़ें: गवर्नर की भूमिका और विवेक, कब-कब राज्यपालों ने सत्ता बनाई और बिगाड़ी

गहलोत ने कहा, ‘‘राजस्थान की जनता को मैं विश्वास दिलाना चाहता हूं कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई हमारी प्राथमिकता है। क्योंकि राजनीतिक उठापटक सरकारों की प्राथमिकता नहीं हो सकती है ... हमारी पहली प्राथमिकता मानव का जीवन है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।