CM योगी ने सभी मंत्रियों को दिया आदेश, 3 महीने के अंदर देनी होगी संपत्ति की पूरी जानकारी

CM योगी ने सभी मंत्रियों को दिया आदेश,  3 महीने के अंदर देनी होगी संपत्ति की पूरी जानकारी
ANI

लोकभवन में अपने मंत्रिमंडलीय सदस्यों के साथ आयोजित एक विशेष बैठक में आदित्यनाथ ने कहा, स्वस्थ लोकतंत्र के लिए जनप्रतिनिधियों के आचरण की शुचिता अति आवश्यक है। इसी भावना के अनुरूप सभी मंत्री शपथ लेने के अगले तीन माह की अवधि के भीतर अपने और अपने परिवार के सदस्यों की समस्त चल-अचल संपत्ति की सार्वजनिक घोषणा करें। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री और उनके मंत्रिमंडल के सदस्यों ने 25 मार्च को पद और गोपनीयता की शपथ ली थी। उन्होंने कहा कि लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के प्रावधानों का अक्षरशः अनुपालन सुनिश्चित करते हुए मंत्रियों के लिए निर्धारित आचरण संहिता का पूरी निष्ठा से पालन किया जाए।

योगी आदित्यनाथ अपने सेकेंड टर्म में भी फुल एक्शन मोड में नजर आ रहे हैं। सीएम योगी ने अपने सभी मंत्रियों के लिए बड़ा आदेश जारी किया है। अब यूपी के सभी मंत्रियों को अपनी और अपने परिवार की संपत्ति की जानकारी देनी होगी। शपथ के तीन महीने के अंदर सभी मंत्रियों को ये जानकारी योगी के सामने रखनी होगी। सीएम योगी ने कहा है कि उनके कैबिनेट के तमाम मंत्री सभी को अपने और अपने परिवार की संपत्ति का ब्यौरा देना होगा। 

इसे भी पढ़ें: कॉमेडियन राजपाल यादव को उत्तर प्रदेश फिल्म विकास परिषद का चेयरमैन बना सकती है योगी सरकार

 लोकभवन में अपने मंत्रिमंडलीय सदस्यों के साथ आयोजित एक विशेष बैठक में आदित्यनाथ ने कहा, स्वस्थ लोकतंत्र के लिए जनप्रतिनिधियों के आचरण की शुचिता अति आवश्यक है। इसी भावना के अनुरूप सभी मंत्री शपथ लेने के अगले तीन माह की अवधि के भीतर अपने और अपने परिवार के सदस्यों की समस्त चल-अचल संपत्ति की सार्वजनिक घोषणा करें। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री और उनके मंत्रिमंडल के सदस्यों ने 25 मार्च को पद और गोपनीयता की शपथ ली थी। उन्होंने कहा कि लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के प्रावधानों का अक्षरशः अनुपालन सुनिश्चित करते हुए मंत्रियों के लिए निर्धारित आचरण संहिता का पूरी निष्ठा से पालन किया जाए। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।