मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेश की जनता को किया संबोधित, बताई कोरोना प्रबंधन रणनीति

मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेश की जनता को किया संबोधित, बताई कोरोना प्रबंधन रणनीति

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कोरोना महामारी लंबे समय तक चल सकती है, ऐसे में हर व्यक्ति को कोरोना के प्रति जागरूक होना पड़ेगा। अपनी जीवनशैली बदलनी होगी। आगे भी मास्क लगाना, एक-दूसरे से दूरी रखना, भीड़ भरे आयोजन न करना आदि सावधानियां बरतनी होंगी।

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में संक्रमण दर घटी है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण दर 24% तक पहुंच गई थी, जो अब 11.8% हो गई है। साप्ताहिक पॉजिटिविटी दर भी 14.8% हो गई है। प्रदेश में कोरोना के नए प्रकरण 8087 आए हैं, परंतु अभी बिल्कुल भी ढिलाई नहीं करनी है, पूरी कड़ाई के साथ कोरोना के विरूद्ध जंग लड़नी है। आप सभी के सहयोग से हम मध्यप्रदेश को शीघ्र ही कोरोना मुक्त करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना का अगर पहले पता चल जाए तो सभी स्वस्थ हो जाते हैं। इसीलिए सर्दी, जुकाम, खांसी, बुखार आदि किसी भी बीमारी को छुपाईये मत, बताईये। हम आपका तुरंत नि:शुल्क इलाज कराएंगे।

 

इसे भी पढ़ें: भिण्ड जिले में हेड कांस्टेबल के बेटे ने मारी खुद को गोली, मौके पर ही मौत

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कोरोना महामारी लंबे समय तक चल सकती है, ऐसे में हर व्यक्ति को कोरोना के प्रति जागरूक होना पड़ेगा। अपनी जीवनशैली बदलनी होगी। आगे भी मास्क लगाना, एक-दूसरे से दूरी रखना, भीड़ भरे आयोजन न करना आदि सावधानियां बरतनी होंगी। साथ ही योग, प्राणायाम, संतुलित आहार-विहार अपनाने होंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने आज वैब कास्टिंग के माध्यम से मंत्रियों, सांसद, विधायकगणों, क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्यों, कोरोना के उपचार में लगे डॉक्टर्स, स्टाफ, शासकीय सेवकों तथा आमजन को संबोधित किया।

 

इसे भी पढ़ें: उज्जैन में वैक्सीनेशन सेंटर को पीटने वाले बीजेपी नेता पर केस दर्ज

मुख्यमंत्री चौहान ने सबसे पहले कोरोना योद्धाओं को सलाम किया, जिन्होंने जनता की सेवा में अपनी जान लगा दी। उन्होंने कहा कि हम सभी कोरोना योद्धाओं को सम्मानित करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कोरोना बीमारी से दिवंगत हुए हर व्यक्ति के प्रति शोक व्यक्त किया तथा श्रद्धासुमन अर्पित किए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ऐसे बच्चे जिन्होंने कोरोना बीमारी में अपने माँ-बाप गवां दिए हैं, वे अनाथ नहीं होंगे। उनकी देख रेख मध्य प्रदेश सरकार करेगी। जब तक वे सक्षम नहीं हो जाते, उन्हें 5 हजार रूपए मासिक पेंशन दी जाएगी। उनकी नि:शुल्क शिक्षा की व्यवस्था की जाएगी तथा उन्हें नि:शुल्क राशन भी दिया जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को मध्य प्रदेश में ऑक्सीजन की आपूर्ति, रेमडेसिविर आदि दवाओं की उपलब्धता, नए ऑक्सीजन संयंत्र, कोविड केयर सेंटर्स, वेंटीलेटर्स आदि के माध्यम से निरंतर मदद करने के लिए धन्यवाद दिया।

 

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री के निर्णय से लोकतंत्र के चौथे खंभे को मिलेगी सुरक्षा : आलोक शर्मा

मुख्यमंत्री चौहान ने जनता को अपनी कोरोना प्रबंधन रणनीति बताते हुए कहा कि प्रदेश में कोरोना को समाप्त करने के लिए पाँच सूत्रों आईडेंटिफाई, आयसोलेट, टैस्ट, ट्रीट तथा वैक्सीनेट अर्थात् मरीज की पहचान करना, उसे अलग करना, कोरोना की जाँच करना, कोरोना का इलाज करना तथा सभी का वैक्सीनेशन करना। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कोरोना कर्फ्यू के माध्यम से संक्रमण की चेन तोड़ने का कार्य किया जा रहा है तथा किल कोरोना अभियान के माध्यम से मरीजों की पहचान कर उनकी जाँच कर उनका इलाज किया जा रहा है। साथ ही प्रदेश में 18 वर्ष से ऊपर वालों तथा 45 वर्ष से ऊपर वालों का वैक्सीनेशन भी किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि किल कोरोना अभियान में ग्रामों एवं कस्बों में सर्वे दल घर-घर जा रहे हैं। सर्दी, जुकाम, बुखार आदि बीमारी होने पर छुपाएं नहीं बताएं। वे तुरंत आपको नि:शुल्क मेडिकल किट देंगे, आपकी जाँच कराएंगे तथा कोविड पाए जाने पर आपको होम आयसोलेशन, कोविड केयर सेंटर अथवा आवश्यकता होने पर अस्पताल में भर्ती कराएंगे। किसी नीम हकीम के चक्कर में न पड़े, बीमारी को बताएं तथा इलाज कराएं।

 

इसे भी पढ़ें: ब्लैक फंगस की दवा की कालाबाजारी और जमाखोरी पर नजर रखें- शिवराज सिंह चौहान

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कोरोना का टैस्ट कराना हर नागरिक का अधिकार है। सरकार द्वारा टैस्ट की नि:शुल्क व्यवस्था की गई है, जो भी चाहे कोरोना का टैस्ट कराए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के प्रत्येक गरीब के लिए पाँच माह के नि:शुल्क राशन की व्यवस्था की गई है। क्राइसिस मैनेजमेंट समूह यह सुनिश्चित कर लें कि उन्हें यह राशन मिल जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मनरेगा, तेंदूपत्ता तुड़ाई तथा उपार्जन कार्य बिना भीड़ के पूरी सावधानी बरतते हुए किया जाए। जिन गाँवों में कोरोना के 5 या अधिक मरीज हैं वहां मनरेगा कार्य बंद कर दिया जाए। मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश में अभी तक 100 लाख मीट्रिक टन गेहूँ का उपार्जन कर लिया गया है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जिला, गाँव एवं ब्लॉक स्तर पर क्राइसिस मैनेजमेंट समूह बनाए गए हैं जो वहां की कोरोना संबंधी सारी व्यवस्थाएं देख रहे हैं। गाँव-गाँव में स्वास्थ्य समितियां भी बनाई जा रही हैं। एक स्वास्थ्य समिति में तीन जनप्रतिनिधि तथा दो शासकीय सेवक रखे गए हैं।

 

इसे भी पढ़ें: शिवराज सरकार ने मीडियाकर्मियों व उनके परिवार के सदस्यों को दी बड़ी राहत

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि नगर पालिका एवं नगर निगम क्षेत्रों में कोविड उपचार केन्द्र बनाए गए हैं। कोई भी व्यक्ति वहां जाकर कोरोना का टैस्ट करा सकता है तथा नि:शुल्क दवाएं एवं परामर्श प्राप्त कर सकता है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री कोविड उपचार योजना के अंतर्गत प्रदेश में गरीब एवं मध्यम वर्गीय व्यक्तियों के लिए कोरोना के नि:शुल्क उपचार की व्यवस्था की गई है। कोरोना का नि:शुल्क इलाज सभी शासकीय अस्पतालों, अनुबंधित निजी अस्पतालों तथा आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत संबद्ध अस्पतालों में किया जा रहा है। कोरोना के पोस्ट इफैक्ट के रूप में सामने आयी ब्लैक फंगस बीमारी की भी नि:शुल्क इलाज की व्यवस्था की गई है।

प्रदेश में  नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचने वालों तथा दवाओं आदि की कालाबाजारी करने वाले 80 से ज्यादा व्यक्तियों के विरूद्ध राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई करते हुए उन्हें जेल भिजवाया गया है। इसके साथ ही मरीज से कोविड इलाज के लिए अधिक शुल्क लेने वाले अस्पतालों के‍ विरूद्ध कार्रवाई करते हुए, उनसे लाखों रूपए जनता को वापस कराए गए हैं।

 

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत किसान भाईयों से आवेदन आमंत्रित

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में आगामी एक माह में 2400 स्वास्थ्य कर्मियों की भर्ती की जाएगी। जिनमें 800 डॉक्टर, 800 नर्स तथा 800 टेक्नीशियन होंगे। इसके अलावा स्वास्थ्य सुविधाओं का विस्तार करते हुए 5000 ऑक्सीजन बेड, 01हजार आई.सी.यू बेड तथा 500 बेड्स बच्चों के लिए बढ़ाए जा रहे हैं। प्रदेश में 100 से ज्यादा ऑक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रिंट, इलेक्ट्रानिक, डिजिटल मीडिया से जुड़े सभी पत्रकारगण, फोटोग्राफर्स, वीडियोग्राफर्स का कोरोना का नि:शुल्क इलाज कराया जाएगा।

 

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री चौहान ने प्रधानमंत्री मोदी का जताया आभार, किसानों के खातों में 19 हजार करोड़ रुपये अंतरित

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार शहरी एवं ग्रामीण स्ट्रीट वेंडर्स को एक-एक हजार रूपए दे रही है। किसानों के फसल ऋण की अदायगी की तिथि को 31 मई से बढ़ाकर 30 जून कर दिया गया है। प्रदेश में 10वीं बोर्ड की परीक्षा नहीं होगी तथा 12वीं की परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में संक्रमण निरंतर कम हो रहा है तथा कई जिलों में संक्रमण दर 5 प्रतिशत से भी नीचे आ गई है, फिर भी अभी कोरोना कर्फ्यू में ढिलाई नहीं दी जाएगी। हमें संक्रमण की चेन को पूरी तरह तोड़ना है। न्यूनतम संक्रमण वाले जिलों में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप आने वाले समय में कर्फ्यू खोलने के लिए फार्मूला बना लें। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि हर व्यक्ति को पेड़ लगाना चाहिए। मैं हर दिन एक पेड़ लगाता हूँ। पेड़ हमारे प्राकृतिक ऑक्सीजन प्लांट हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept