ओडिशा सरकार का कलेक्टर को आदेश, टेस्ट रिपोर्ट का इंतजार किए बिना कोरोना संदिग्ध का करें अंतिम संस्कार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 28, 2020   13:05
ओडिशा सरकार का कलेक्टर को आदेश, टेस्ट रिपोर्ट का इंतजार किए बिना कोरोना संदिग्ध का करें अंतिम संस्कार

स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पी. के. महापात्रा ने कहा कि यह स्पष्ट है कि हम वैश्विक महामारी का सामना कर रहे हैं और कई एहतियात बरतें जा रहे हैं और ऐसे में कोविड नियमों के तहत मृतक के परिवार के परामर्श के बाद शव का जल्द से जल्द अंतिम संस्कार किया जाना जरूररी है।

भुवनेश्वर। ओडिशा सरकार ने सभी जिला कलक्टर, एसपी, नगर निगम आयुक्त और स्वास्थ्य अधिकारियों को कोविड-19 संदिग्धों की मौत होने पर उनकी जांच रिपोर्ट का इंतजार किए बिना उनका अंतिम संस्कार करने का आदेश दिया है। अधिकारी ने बताया कि कोरोना वायरस जांच की रिपोर्ट का इंतजार करने के कारण संदिग्धों के अंतिम संस्कार में देरी का पता चलने के बाद राज्य सरकार ने एक पत्र जारी किया। गौरतलब है कि गंजाम जिले में कोरोना वायरस की रिपोर्ट लंबित होने के कारण एक पुलिस कर्मी के शव को कथित तौर पर अस्पताल में लावारिस छोड़ दिया गया था और उसे कोई हाथ नही लगा रहा था। 

इसे भी पढ़ें: देश में लगातार छठे दिन कोरोना के 45 हजार से अधिक मामले दर्ज, अबतक 14,83,156 व्यक्ति संक्रमित 

स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पी. के. महापात्रा ने सभी जिला कलक्टरों और नगर निगम आयुक्तों को लिखे एक पत्र में कहा, ‘‘ यह स्पष्ट है कि हम वैश्विक महामारी का सामना कर रहे हैं और कई एहतियात बरतें जा रहे हैं और ऐसे में कोविड नियमों के तहत मृतक के परिवार के परामर्श के बाद शव का जल्द से जल्द अंतिम संस्कार किया जाना जरूररी है। ’’ मोहपात्रा ने कहा कि इससे शोकाकुल परिवार की पीड़ा कम होगी। इसलिए आगे किसी की भी मौत के बाद शव का अंतिम संस्कार करने में कोई देरी ना की जाए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।